हरदोई, संवाद सूत्र। घर में सो रहे युवक की चाकू से गोदने के बाद गोली मारकर हत्या कर दी गई। देहात कोतवाली क्षेत्र के लालतापुरवा गांव में ये घटना हुई। पारिवारिक बंटवारे को लेकर हुए विवाद में भाई पर हत्या का आरोप लगाया गया है। एएसपी समेत अधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर घटना की जानकारी ली। खास बात ये है कि मृतक को चाकू लगने व गोली मारने की आवाज भी घर में किसी को नहीं आई।

यह है मामला: शाहजहांपुर जिले के जलालाबाद निवासी मनोज की लालतापुरवा में ससुराल है। उसे ससुराल में ही खेत, मकान मिला था और वह पत्नी व बच्चों के साथ ससुराल में ही रहकर रेलवेगंज में विसातखाना की दुकान करता था। रविवार की रात वह खाना खाने के बाद एक कमरे में सो गया, सोमवार की सुबह पत्नी व बच्चे उठे तो कमरे में चारपाई पर उनका शव पड़ा था। शरीर पर चाकू के निशान थे और गोली भी मारी गई थी। पत्नी रुचि ने शोर मचाया तो अन्य लोग भी आ गए। कोतवाली देहात पुलिस के साथ सीओ सिटी विकास जायसवाल व एएसपी अनिल कुमार मौके पर पहुंचे और पूरी जानकारी ली। रुचि ने मृतक के भाई पर हत्या का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि कुछ दिन पूर्व जलालाबाद की खेती के बंटवारे को लेकर काफी विवाद हो गया था और उन्होंने ही जान से मारने की धमकी दी थी और उन्होंने ही हत्या कर दी। सीओ सिटी ने बताया कि फारेंसिक टीम से भी मौके की जांच कराई गई है। तहरीर के आधार पर एफआइआर दर्ज कर आगे की कार्रवाई की जा रही है।

पति की सलामती के लिए रखा था  व्रत: मनोज की हत्या का कारण जो भी रहा हो लेकिन रविवार को ही रुचि ने उसकी सलामती के लिए करवाचौथ का व्रत रखा था। शाम को पूजन के बाद खाना खाकर सभी सोए थे। रुचि को क्या पता था कि यह उसका आखिरी व्रत है। इस घटना ने सभी को झकझोर दिया है।

परिस्थितियों से खड़े हो रहे सवाल: मनोज के चाकू मारने के बाद गोली भी मारी गई। जोकि मामले को मोड़ दे रही है। हत्या का आरोप भाई पर लगाया जा रहा है, लेकिन भाई क्या इतना खून का प्यासा था कि पहले चाकू मारे और फिर गोली मार दी। दूसरी बात गोली की आवाज भी घरवालों को सुनाई नहीं दी, जोकि मामले को मोड़ भी दे रही है।

Edited By: Rafiya Naz