लखनऊ [राज्य ब्यूरो]। उत्तर प्रदेश में सत्ता से बेदखल होने के बाद तीन दशक में युवाओं से काफी दूर हो चुकी कांग्रेस अब उनसे रोजगार के मुद्दे से जुड़ना चाहती है। युवा दिवस यानी स्वामी विवेकानंद की जयंती के साथ ही राष्ट्रीय महासचिव व यूपी प्रभारी प्रियंका वाड्रा के जन्मदिन से नौकरी संवाद अभियान का शुभारंभ युवा कांग्रेस ने किया है। हर जिले में बेरोजगार युवाओं से संपर्क और संवाद कर सरकार के खिलाफ माहौल बनाने का प्रयास होगा।

युवा कांग्रेस रोजगार का मुद्दा लेकर युवाओं के बीच जाएगी। इसके जरिए न सिर्फ पार्टी अपनी जगह बनाने का प्रयास करेगी, बल्कि सरकार को भी बेरोजगारी की समस्या पर घेरने की तैयारी है। इसके लिए अभियान चलाकर हर जिले में युवाओं से संपर्क किया जाएगा। उनसे हस्ताक्षर सहित नौकरियों के संबंध में सुझाव लिए जाएंगे। प्रदेश भर से न्यूनतम 75 हजार हस्ताक्षरों का लक्ष्य रखा गया है।

नौकरी संवाद अभियान का शुभारंभ मंगलवार को प्रदेश मुख्यालय परिसर में हुआ, जिसमें पूरे प्रदेश से बेरोजगार युवाओं को बुलाया गया। विभिन्न जिलों से आए युवाओं ने रोजगार के संकट, भर्तियों में गड़बड़ी या रोक जैसी बातें कांग्रेस के मंच से कहीं। वहीं, पार्टी प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा कि जो उत्तर प्रदेश कभी अपनी युवा शक्ति की वजह से भारत का केंद्र बिंदु हुआ करता था, आज कई दशक की खराब सरकारों की वजह से बेरोजगारी और प्रवासी मजदूरों की राजधानी बन गया है।

युवा कांग्रेस पूर्वी उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष कनिष्क पांडेय ने कहा कि आज उत्तर प्रदेश में जहां एक तरफ लाखों युवा नौकरियों में चयन का इंतजार कर रहे हैं, वहीं करोड़ों युवा किसी भी तरह का रोजगार पाने से वंचित हैं। इन सभी की आवाज कांग्रेस बनेगी और रोजगार का वादा करने वाली मोदी-योगी सरकार से जवाब मांगेगी।

पश्चिम उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष ओमवीर यादव ने पोस्टर के जरिये इस अभियान के बारे में बताया। यूथ कांग्रेस की प्रदेश प्रभारी तनु यादव ने संवाद कराया। नेता विधान परिषद दल दीपक सिंह, पूर्व मंत्री नसीमुद्दीन सिद्दीकी के अलावा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए महिला कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सुष्मिता देव और वाराणसी के पूर्व विधायक अजय राय ने भी अपने विचार रखे।