लखनऊ, जेएनएन। पुलिस मुख्यालय के पास बुधवार देर रात एक महिला की गला रेतकर फेंक दिया गया। महिला लहूलुहान अवस्था में शहीद पथ के किनारे पड़ी रही। वहां से गुजर रही आलमबाग निवासी एक राहगीर महिला ने उसे देखा और घायल को गाड़ी में लादकर लोहिया अस्पताल लेकर पहुंची।

काफी देर तक पड़ी थी महिला 

इस घटना ने अहिमामऊ पुलिस चौकी पर तैनात पुलिसकर्मियों की कार्यशैली पर सवाल खड़े कर दिए हैं। पुलिस मुख्यालय में हर वक्त पुलिसकर्मी मौजूद रहते हैं। बावजूद इसके घायल महिला पर किसी की नजर नहीं पड़ी। स्थानीय लोगों ने अहिमामऊ पुलिस पर क्षेत्र में गस्त नहीं करने का आरोप भी लगाया है। 

करीबी ने ही रेता था महिला का गला, गिरफ्तार

डीजीपी मुख्यालय के पास बुधवार देर रात लहूलुहान हालत में जो महिला मिली थी, उसे उसके परिचित ने ही मारने की कोशिश की थी। राजधानी पुलिस ने कुछ घंटे में वारदात का राजफाश करते हुए आरोपित को गिरफ्तार कर लिया। एसएसपी कलानिधि नैथानी के मुताबिक, घायल महिला ने पुलिस को एक मोबाइल नंबर उपलब्ध कराया था। उस नंबर पर सर्विलांस के सहारे पड़ताल के बाद आरोपित को दबोच लिया गया।

इंस्पेक्टर गोसाईगंज डीके उपाध्याय के मुताबिक, पकड़ा गया आरोपित शंकर चौराहा विशाल खंड गोमतीनगर निवासी नदीम खान की मुलाकात तीन वर्ष पहले सोनी से हुई थी। सोनी सेक्टर 19 इंदिरानगर स्थित एक निजी स्कूल में आया का काम करती थी। नदीम वहां स्कूल वैन चलवाता था, जहां दोनों की मुलाकात हुई। नदीम ने दो शादियां कर रखी है और सोनी को तीसरी पत्नी के रूप में अपने साथ रखा था।

नदीम के साथ रहने के दौरान सोनी ने नौकरी छोड़ दी थी। पूछताछ में आरोपित ने बताया कि सोनी खर्चे को लेकर उसपर दबाव बनाती थी। इसके कारण वह दो अन्य पत्नियों को खर्च नहीं दे पा रहा था। दो दिन पहले भी दोनों में विवाद हुआ था। इसके बाद उसने सोनी की हत्या करने का प्लान बनाया।

मेला घुमाने के बहाने ले गया था

आरोपित सोनी को कार से मेला घुमाने के बहाने घर से साथ लेकर निकला था। इस दौरान गाड़ी में उसने चाकू रख लिया था। कुछ देर तक इधर उधर घुमाने के बाद वह कार लेकर शहीद पथ की ओर चला गया। डीजीपी मुख्यालय के पास सन्नाटा पाकर नदीम ने पास में रखा चाकू निकाला और सोनी की कार में ही गला रेत दी। इसके बाद उसे मरा हुआ समझकर कार से नीचे फेंक दिया और भाग निकला।

ऐसे हुई पहचान

एसएसपी के मुताबिक पीडि़ता ने एक मोबाइल नंबर दिया था, जो आरोपित के नंबर से मिलता जुलता था। पुलिस ने उस नंबर के अंकों को इधर उधर करके छानबीन की तो नदीम खान नाम के युवक के बारे में पता चला। फेसबुक प्रोफाइल खंगालने पर उसकी फ्रेंड लिस्ट में सीमा खान भी नजर आईं, जिसकी शक्ल घायल महिला से मिल रही थी। एक अन्य फोटो में नदीम एक गाड़ी चलाता हुआ दिखा, जिसकी पड़ताल की गई तो पता चला कि वह कार उदयगंज निवासी एक व्यक्ति की है। नाका पुलिस ने उस व्यक्ति से संपर्क किया तो नदीम के घर का पता मिला और उसे दबोच लिया गया। आरोपित के पास से खून से सनी कार और चाकू भी बरामद की गई है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021