लखनऊ, जेएनएन। स्नातक प्रवेश काउंसिलिंग शुल्क वापसी समेत 16 सूत्रीय मांगों को लेकर बुधवार को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता और पदाधिकारियों समेत छात्रों ने लविवि में प्रशासनिक भवन का घेराव कर जमकर हंगामा किया। छात्रों ने शुरू की गई इस व्यवस्था के खिलाफ नारेबाजी की। बवाल बढ़ता देख कुलपति प्रो. आलोक कुमार राय ने उन्हें बुलाया और मुलाकात की और विद्यार्थियों ने उन्हें ज्ञापन दिया।

 इस दौरान लखनऊ विवि इकाई की उपाध्यक्ष मानसी गुप्ता व अन्य छात्र मौजूद रहें। छात्र-छात्राओं ने कहा कि काउंसिलिंग के नाम पर ली जा रही 200 से 1000 रुपये शुल्क को तत्काल समाप्त किया जाए। इसके साथ ही 2020-21 सत्र में सभी पाठ्यक्रमों की बढ़ाई गई फीस के आदेश को तत्काल वापस लिया जाए। प्रोन्नत हुए छात्रों से ली गई परीक्षा शुल्क वापस की जाए अथवा उसे अगले सत्र में समाहित किया जाए। नवीन परिसर की सुरक्षा बढ़ाई जाए। विगत वर्ष से बंद पड़े बीरबल साहनी छात्रावास को नए सत्र से प्रारंभ किया जाए। सत्र 2019-20 के प्रोन्नत छात्रों का रिजल्ट भी जल्द ही घोषित किया जाए। महिला छात्रावासों में सेनेटरी पैड वेंडिंग मशीन लगाई जाए। कई छात्रावासों में बंद चल रही पुस्तकालय व्यवस्था को तत्काल शुरू किया जाए समेत 16 सूत्रीय मांगों को लेकर विद्यार्थियों ने प्रशासनिक भवन का घेराव कर जमकर हंगामा किया।

विद्यार्थी कुलपति से मिलने की जिद पर अड़े थे। उधर, हंगामा बढ़ता देख सुरक्षा कर्मचारियों ने प्रशासनिक भवन का गेट बंद कर लिया। यह देख विद्यार्थी धरने पर बैठ गए। धरने पर बैठे विद्यार्थी नारेबाजी कर रहे थे। बवाल बढ़ता देख कुलपति ने एक प्रतिनिध मंडल को बुलाया। प्रतिनिधि मंडल ने कुलपति को 16 सूत्रीय मांगों को लेकर ज्ञापन दिया।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस