लखनऊ, राज्य ब्यूरो। परिवहन मंत्री अशोक कटारिया ने कहा कि कम आय देने वाले परिवहन निगम के क्षेत्रीय प्रबंधकों (आरएम) व सहायक क्षेत्रीय प्रबंधकों (एआरएम) को तत्काल हटाया जाए। साथ ही लाभ देने वाले प्रबंधकों को प्रोत्साहित किया जाए। कोरोना महामारी के कारण परिवहन निगम की आय में कमी आयी है। महामारी अब नियंत्रण में है। निगम की आय बढ़ाने के लिए जितने तौर-तरीके हैं उनको अपनाया जाए। उन्होंने कहा कि घाटे में चल रहे डिपो की हर 15 दिन में समीक्षा होनी चाहिए। यात्रियों का रोडवेज बसों के प्रति आकर्षण बढ़े, इसलिए बस एवं बस स्टैंड की स्वच्छता पर विशेष ध्यान रखा जाए।

परिवहन निगम मुख्यालय में आयोजित समीक्षा बैठक में मंत्री ने कहा कि बसों की साफ-सफाई की जिम्मेदारी चालकों को दी जाए और इसके लिए उन्हें अलग से प्रोत्साहन राशि देने के भी नियम बनाए जाएं। उन्होंने पायलट प्रोजेक्ट के तौर यह कार्यक्रम तत्काल शुरू करने के निर्देश दिए। दूसरे राज्यों को जाने वाली बसें अच्छी स्थिति में होनी चाहिए, जिससे यात्रियों को कोई असुविधा न हो। अन्य राज्यों को जाने वाली बसों की भी समय-समय पर चेकि‍ंग दल द्वारा जांच की जाए। साथ ही निगम के वर्कशाप की भी लगातार निगरानी की जाए। 50 फीसद से अधिक लोड फैक्टर पर ही बसों का संचालन किया जाए।

परिवहन निगम की बसें प्रत्येक दशा में बस अड्डे से ही होकर जाएं। ऐसा न करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए। इंटरनेट मीडिया पर लोगों की जिज्ञासाओं का तत्काल समाधान किया जाए और हेल्पलाइन पर आने वाले शिकायतों का त्वरित निस्तारण किया जाए। बैठक में प्रमुख सचिव परिवहन राजेश कुमार ङ्क्षसह, विशेष सचिव परिवहन अखिलेश मिश्रा, परिवहन निगम के प्रबंध निदेशक नवदीप रिणवा, परिवहन निगम की अपर प्रबंध निदेशक सरनीत कौर ब्रोका मौजूद थीं।

Edited By: Anurag Gupta