लखनऊ। देश में सबसे अधिक आवेदक उत्तर प्रदेश से हज यात्रा पर रवाना होते हैं। हज-2014 में करीब 30 प्रतिशत की कटौती के बावजूद भी प्रदेश के आवेदकों की संख्या अव्वल है। प्रत्येक वर्ष सबसे ज्यादा हज कोटा प्रदेश को ही आवंटित भी किया जाता है। उत्तर प्रदेश में मुसलमानों की सबसे अधिक आबादी होने के बाद भी साल दर साल हज आवेदन की संख्या लगातार घटती जा रही है।

इस बार सऊदी अरब हुकूमत की ओर से देश को एक लाख बीस सीटों का कोटा आवंटित किया गया। इसमें 6200 सीटों को सुरक्षित रख सेंट्रल हज कमेटी ने 94 हजार सीटें देश के प्रदेशों में बांटी है। सीटों की संख्या प्रदेश में मुस्लिम आबादी के हिसाब से रखी गई है। उप्र में सबसे अधिक मुसलमान होने के कारण प्रत्येक वर्ष की तरह इसबार भी सर्वाधिक कोटा 23668 आवंटित किया गया है, जबकि हज यात्रा के नियमों में सख्ती व महंगाई के कारण आवेदकों की संख्या मात्र 34 हजार के करीब ही है। इसके अलावा कुछ प्रदेश ऐसे भी हैं, जहां आबादी कम होने के कारण उप्र से एक चौथाई से कम हज का कोटा आवंटित किया गया है। इसके बावजूद उन प्रदेशों में आवेदकों की संख्या उप्र से कहीं अधिक है। हज यात्रा 2014 में हज कोटे के मामले में जहां उप्र अव्वल है, वहीं आवेदकों की संख्या में चौथे नंबर पर है। देश में सर्वाधिक 56130 आवेदन फार्म केरल से जमा हुए है। हज आवेदन में देश में अव्वल होने के बाद भी यहां का कोटा मात्र 6054 सीटों का है। इसी तरह महाराष्ट्र दूसरे व गुजरात तीसरे पायदान पर है। महाराष्ट्र का कोटा 7907 सीटों का है, जबकि यहां से 48177 फार्म जमा हुए हैं। गुजरात में कुल आवेदकों की संख्या 47541 होने के बाद भी मात्र 3536 सीटों का ही कोटा आवंटित किया गया है।

----------------

26 को लाटरी

26 अप्रैल को आन लाइन हज लाटरी निकालकर आवेदकों का चयन किया जाएगा। सुबह 10 बजे से गोमती नगर स्थित इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में लाटरी होगी।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस