लखनऊ [राज्य ब्यूरो]। उत्तर प्रदेश माध्यमिक संस्कृत शिक्षा परिषद लखनऊ सफलता प्रतिशत में यूपी बोर्ड और सीबीएसई से भी आगे निकल गया है। शनिवार को जारी परिणाम में संस्कृत शिक्षा परिषद के प्रथम (8वीं), पूर्व मध्यमा प्रथम (9वीं) व उत्तर मध्यमा प्रथम (11वीं) के विद्यार्थी शत-प्रतिशत सफल हुए हैं, जबकि पूर्व मध्यमा द्वितीय (10वीं) व उत्तर मध्यमा द्वितीय (12वीं) का परिणाम 97 प्रतिशत से अधिक रहा है। विद्यार्थी वेबसाइट पर परिणाम देख सकते हैं।

निदेशक माध्यमिक शिक्षा व सभापति उत्तर प्रदेश माध्यमिक संस्कृत शिक्षा परिषद विनय कुमार पांडेय ने बताया कि आठवीं से बारहवीं तक की परीक्षा के लिए 72,489 छात्र व 24,691 छात्राएं व्यक्तिगत व संस्थागत परीक्षार्थी पंजीकृत रहे हैं। परीक्षा परिणाम माध्यमिक संस्कृत शिक्षा परिषद की वेबसाइट www.sanskriteb.gov.in पर अपलोड कर दिया गया है।

विनय कुमार पांडेय ने बताया कि प्रथमा (कक्षा 8), पूर्व मध्यमा प्रथम (कक्षा 9) में बालक व बालिका वर्ग का उत्तीर्ण प्रतिशत 100 प्रतिशत रहा है, पूर्व मध्यमा द्वितीय (कक्षा 10) में बालक वर्ग का उत्तीर्ण प्रतिशत 97.31 प्रतिशत, जबकि बालिका वर्ग का 97.86 प्रतिशत रहा है। उन्होंने बताया कि उत्तर मध्यमा प्रथमा (कक्षा 11) में बालक तथा बालिका वर्ग का उत्तीर्ण प्रतिशत 100 प्रतिशत रहा है व उत्तर मध्यमा द्वितीय (कक्षा 12) में बालक वर्ग में 97.29 प्रतिशत, जबकि बालिका वर्ग में 97.56 प्रतिशत परीक्षार्थी उत्तीर्ण हुए हैं।

बता दें कि उत्तर प्रदेश माध्यमिक संस्कृत शिक्षा परिषद के भी 97 हजार विद्यार्थियों को प्रोन्नत करने का फैसला राज्य सरकार ने लिया था। प्रथमा (कक्षा आठ), पूर्व मध्यमा प्रथम (कक्षा नौ), पूर्व मध्यमा द्वितीय (कक्षा 10) , उत्तर मध्यमा प्रथम (कक्षा 11) और उत्तर मध्यमा द्वितीय (कक्षा 12) के विद्यार्थियों को अगली कक्षा में प्रोन्नति उनके शैक्षिक प्रदर्शन के अनुसार दी गई है। संस्कृत शिक्षा परिषद द्वारा मासिक, अर्द्धवार्षिक और प्री बोर्ड परीक्षा का आयोजन न होने के कारण प्रत्येक विषय के पठन-पाठन में छात्र की विशिष्टता को देखते हुए अंक दिए गए हैं।

Edited By: Umesh Tiwari