लखनऊ, [राज्य ब्यूरो]। सूबे में अपराधियों के विरुद्ध जीरो टॉलरेंस की नीति के तहत पुलिस के कदम लगातार बढ़ रहे हैं। प्रदेश में अपराधियों के विरुद्ध चल रहे अभियान को लेकर सियासी दल सवाल उठाते रहे हैं लेकिन कार्रवाई का सिलसिला जारी है। योगी सरकार में चार वर्ष में अब तक पुलिस व बदमाशों के बीच मुठभेड़ में 135 अपराधी मारे गए हैं। इस वर्ष ढाई माह में ही छह अपराधी मुठभेड़ में ढेर कर दिए गए।

सूबे में वर्ष 2017 में पुलिस मुठभेड़ में 28, वर्ष 2018 में 41, वर्ष 2019 में 34 व वर्ष 2020 में 26 अपराधी मारे गए थे। इनमें 111 ऐसे अपराधी हैं, जिन पर इनाम घोषित था और उनकी तलाश चल रही थी। पुलिस ने बिकरू कांड के मुख्य आरोपी विकास दुबे को भी मुठभेड़ में मार गिराया था। वह इनामी बदमाशों की सूची में सबसे ऊपर था और उस पर पांच लाख रुपये का इनाम घोषित था। इसके अलावा पुलिस ने ढाई लाख के इनामी तीन बदमाशों को ढेर किया।

दो लाख के इनामी दो बदमाश, डेढ़ लाख के इनामी तीन बदमाश, एक लाख के इनामी 18 बदमाश, 75 हजार का इनामी एक बदमाश, पचास हजार के इनामी 46 बदमाश, 25 हजार के इनामी 20 बदमाश, 15 हजार के इनामी 11 बदमाश, 12 हजार के इनामी चार बदमाश तथा पांच हजार का इनामी एक बदमाश भी पुलिस की गोली से ढेर हुआ। मेरठ में अब तक सबसे अधिक 18 बदमाश मुठभेड़ में ढेर हुए हैं। पुलिस व बदमाशों के बीच 7791 से अधिक मुठभेड़ हुईं, जिनमें पुलिस ने 16 हजार से अधिक बदमाशों को गिरफ्तार किया है। इस दौरान तीन हजार से अधिक बदमाश पुलिस की गोली से घायल हुए हैैं। 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप