लखनऊ, जेएनएन। भविष्य निधि घोटाले को लेकर भाजपा सरकार और विपक्षी दल सपा के बीच सोशल मीडिया पर भी वाकयुद्ध शुरू हो गया है। मंगलवार को इस घोटाले में अखिलेश सरकार में पावरफुल रहे पावर कारपोरेशन के पूर्व एमडी एपी मिश्रा की गिरफ्तारी हुई। इसके पहले ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के दफ्तर ने ट्वीट किया 'योगी आदित्यनाथ की जीरो टालरेंस तलवार के वार से भ्रष्टाचारी त्राहिमाम कर रहे हैं। पावर कारपोरेशन के पूर्व एमडी जो अखिलेश यादव के नयन के तारे थे, उन्हें तीन बार सेवा विस्तार मिला था हिरासत में लिये गये हैं। तो भाई अखिलेश बाबू, ये रिश्ता क्या कहलाता है।'

भाजपा सरकार और सपा के बीच ट्विटर वार पहले से ही चल रहा है। पहले समाजवादी पार्टी ने ही ट्वीट किया था कि  'भ्रष्टाचार में आकंठ डूबी सत्ता नए-नए पत्रों से जनता का ध्यान भटका रही है। द्वेष की राजनीति के चलते झूठे आरोप लगा रही। डीएचएफएल से 20 करोड़ रुपये चंदा लेने वाले भाजपा सरकार के ऊर्जा मंत्री शर्मा जी बताएं ये रिश्ता क्या कहलाता है।'

इसी मसले पर मंगलवार को सपा मुख्यालय में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव की प्रेसवार्ता के दौरान एक स्लाइड के जरिये मुख्यमंत्री से सवाल पूछा गया कि ये रिश्ता क्या कहलाता है। सपा के जवाब में योगी के दफ्तर ने भी ट्वीट के जरिये जमकर हमला बोला। ट्वीट किया गया 'भ्रष्टाचारी गिद्धों ने जब अपनी आंख जमाई, अत्याचारों के खिलाफ संतों ने अलख जगाई।' अबकी बार भ्रष्टाचार की जड़ पर प्रहार नारे के साथ यह भी ट्वीट किया 'मेहनतकशों की गाढ़ी कमाई की खूब मचाई बंदरबांट, भ्रष्ट तंत्र की शह पा करके, वर्षों की तुम सबने ठाट, जनता को धोखा देने वालों के अब दिन हो चले हैं पूरे, संन्यासी के संकल्पों से, भ्रष्टाचारियों की खड़ी है खाट।' 

Posted By: Umesh Tiwari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप