लखनऊ [राज्य ब्यूरो]। उत्तर प्रदेश में त्रि-स्तरीय पंचायत चुनाव में मतदान प्रक्रिया पूरी होने के साथ ही दो मई को होने वाली मतगणना की तैयारी भी शुरू कर दी गयी है। राज्य निर्वाचन आयोग ने मतगणना प्रक्रिया को लेकर नए दिशा-निर्देश जारी किए हैं। कोरोना के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए प्रत्येक मतगणना केंद्र पर मेडिकल हेल्थ डेस्क स्थापित की जाएगी। थर्मल स्कैनिंग के बाद ही किसी व्यक्ति का मतगणना स्थल में प्रवेश हो सकेगा। प्रत्याशियों व अभिकर्ताओं को वोटों की गिनती प्रारंभ होने से 48 घंटे पहले रैपिड एंटीजन टेस्ट की निगेटिव रिपोर्ट अथवा कोविड वैक्सीनेशन कोर्स पूरा होने के साक्ष्य प्रस्तुत करने होंगे।

राज्य निर्वाचन आयुक्त मनोज कुमार ने बताया कि जिस भी व्यक्ति में जुकाम, बुखार व खांसी जैसे लक्षण दिखेंगे। उसको मतगणना परिसर में प्रवेश की अनुमति नहीं दी जाएगी। प्रत्येक केंद्र पर सैनिटाइजर और हाथ धोने के लिए साबुन व पानी आदि का प्रबंध भी किया जाएगा। निर्देशों का पालन नहीं करने पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कि मतगणना केंद्रों पर न तो भीड़ एकत्रित करने दी जाएगी और न प्रत्याशी को विजय जुलूस निकालने की अनुमति मिलेगी। प्रत्येक व्यक्ति को मास्क पहनना व सुरक्षित दूरी बनाकर रखनी होगी।

यह भी पढ़ें : यूपी पंचायत चुनाव मतगणना टालने पर अड़ा शिक्षक संघ, निर्वाचन आयोग से कहा- ड्यूटी में खोए 706 शिक्षक

पंचायत चुनाव के अंतिम चरण में 75.38 फीसद मतदान : त्रि-स्तरीय पंचायत चुनाव के अंतिम चरण का मतदान प्रकिया गुरुवार को पूरी हो गई। छिटपुट हिंसक वारदातों के बीच 17 जिलों में देर शाम तक 75.38 प्रतिशत वोट डाले गए, जो अब तक सभी चरणों में सर्वाधिक है। अंतिम चरण का मतदान निपटने के बाद उम्मीदवारों में आगामी दो मई से आरंभ हो रही मतगणना को लेकर उत्सुकता बनी है। राज्य निर्वाचन आयुक्त मनोज कुमार ने बताया कि मतदान केंद्रों पर कोरोना बचाव के उपायों का सख्ती से पालन किया गया। पंचायतीराज व अन्य विभागों के कर्मचारी सैनिटाइजेशन कराने में जुटे थे।

छिटपुट घटनाओं के बीच शांतिपूर्ण रहा मतदान : पंचायत चुनाव के चौथे चरण के मतदान के दौरान पुलिस की अतिरिक्त सतर्कता काम आई। कई प्रत्याशियों से लेकर उनके समर्थकों पर पुलिस की कड़ी नजर रही है और छिटपुट घटनाओं के बीच मतदान शांतिपूर्ण संपन्न हुआ। संवेदनशील क्षेत्रों व मतदान केंद्रों पर पुलिस का कड़ा पहरा रहा। एडीजी कानून-व्यवस्था प्रशांत कुमार का कहना है कि डीजीपी मुख्यालय स्तर से हर छोटी-बड़ी सूचना पर सीधे नजर रखी गई। फर्रुखाबाद के ग्राम जैदपुर ब्लाक स्थित पोलिंग बूथ से कुछ शरारती तत्वों ने करीब 500 बैलेट पेपर गायब कर दिए। गाजीपुर में तीन स्थानों पर दो पक्षों के बीच मारपीट व पथराव की घटनाएं हुईं। मथुरा में फर्जी मतदान को लेकर दो पक्ष आपस में भिड़ गए और उनके बीच फायरिंग भी हुई। सीतापुर में भी मारपीट व फायरिंग की घटना हुई। अलीगढ़ में दो प्रधान प्रत्याशियों के बीच विवाद बढ़ने पर उपद्रवियों ने पुलिस पर भी पथराव किया। सरकारी वाहनों में तोड़फोड़ की गई। बहराइच, शाहजहांपुर व बस्ती में मारपीट की घटनाएं हुईं।