बाराबंकी, जेएनएन। औद्योगिक इकाईयों में नए शोध का लाभ सिर्फ संबंधित इकाई और उससे जुड़े लोगों को होता है। जबकि, रामसरन वर्मा जैसे प्रगतिशील किसान अपनी तकनीक को आमजन तक ले जाकर उनकी प्रगति का मार्ग प्रशस्त करती हैं। कृषि के क्षेत्र में इनका योगदान सराहनीय है, इसलिए केंद्र सरकार ने इन्हें पद्मश्री से विभूषित किया है। यह बातें राज्यपाल आनंदी बेन पटेल शनिवार को हरख ब्लॉक के दौलतपुर स्थित पद्मश्री राम सरन वर्मा के कृषि फार्म और तकनीक का अवलोकन करने के बाद किसानों को संबोधित करते हुए कहीं।

उन्होंने कहा कि खेती की किसान ही नहीं देश की अर्थव्यवस्था को मजबूती देने में अहम भूमिका है। उन्होंने इस मौके पर आठ किसानों को सम्मानित किया। साथ ही सम्मानित होने वाले किसानों में महिला न होने पर आगे से उन्हें भी शामिल करने पर जोर दिया। कार्यक्रम में समापन से पहले आयोजकों ने दो महिला किसानों के नाम सम्मान के लिए प्रस्तावित किए, जिन्हें राज्यपाल ने सम्मानित किया।

उन्होंने प्रशासन से किसानों की उपज की खरीद सुनिश्चित कराने को कहा। साथ ही समाज को तपेदिक यानी टीबी रोग से मुक्त बनाने के लिए जनप्रतिनिधि, अफसर, समाजसेवियों और स्वयंसेवी संस्थाओं से बच्चों को गोद लेने का आह्वान किया। राज्यपाल ने कहा कि कृषि पर निर्भरता बढ़ाने के लिए नई तकनीक अपनाने को कहा ताकि 2022 से पहले किसानों की आय दोगुनी करने का लक्ष्य हासिल किया जा सके। केंद्रीय कृषि राज्यमंत्री पुरुषोत्तम रूपाला ने राम सरन वर्मा की कृषि तकनीक की सराहना करते हुए इसको विस्तार देने को कृषि क्षेत्र में बड़ा योगदान बताया। प्रबंध निदेशक इफ्को यूएस अवस्थी, सांसद उपेंद्र सिंह रावत, पूर्व मंत्री संग्राम सिंह वर्मा, विधायक शरद अवस्थी, बैजनाथ रावत, सतीश शर्मा, भाजपा जिलाध्यक्ष अवधेश श्रीवास्तव आदि मौजूद रहे।

युद्धस्तर पर की गई तैयारियां 

राज्‍यपाल के आगमन के दृष्टिगत प्रगतिशील किसान रामसरन वर्मा के कृषिफार्म पर शुक्रवार को देर रात युद्धस्तर पर कार्य कर तैयारियों को अंतिम रूप दिया गया। डीएम डॉ. आदर्श सिंह व एसपी डॉ. अरविंद चुतर्वेदी सहित अन्य अधिकारियों ने कार्यक्रम स्थल से करीब तीन सौ मीटर पहले सड़क किनारे खेत में हैलीपैड को देखने के साथ ही पंडाल, मंच व्यवस्था व उन स्थलों को भी देखा, जिनका राज्यपाल को अवलोकन करना था।

दिनभर होती रही सफाई

पद्मश्री के कृषि फार्म पर तैयारियों के साथ ही दौलतपुर को जाने वाले मार्ग पर भी दिनभर सफाई होती दिखी। सड़क किनारे का अतिक्रमण भी शुक्रवार को हटाया गया। 

हरियाली की भी फिक्र

कृषि फार्म पर हरियाली का भी खासा ध्यान रखा गया। रैंपनिंग चैंबर के सामने एक टीलेनुमा स्थान पर विभिन्न प्रजातियों के पौधे बड़े गमलों में रखवाए गए। साथ ही पूरे परिसर में ढाई सौ के आसपास छोटे गमले में पौधे लगे, जिनमें काफी संख्या में रंग-बिरंगे फूलों के हैं।

सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम, 387 पुलिसकर्मी तैनात

राज्यपाल आनंदी बेन पटेल के प्रस्तावित कार्यक्रम के दृष्टिगत पुलिस प्रशासन ने सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए हैं। एक घंटा 40 मिनट के कार्यक्रम के लिए ड्यूटी पर लगाए गए सुरक्षाकर्मियों को ड्यूटी कार्ड जारी किया गया है। शनिवार को सभी पुलिसकर्मियों को उनकी ड्यूटी से संबंधित ब्रीफिंग की जाएगी। शुक्रवार को डीएम-एसपी ने मौके पर पहुंचकर तैयारियों का जायजा भी लिया। 

एएसपी अशोक कुमार ने बताया कि राज्यपाल की सुरक्षा में चार क्षेत्राधिकारी, 17 प्रभारी निरीक्षक, 60 उपनिरीक्षक, 206 कांस्टेबल, 80 महिला कांस्टेबल सहित यातायात व्यवस्था के लिए एक यातायात उपनिरीक्षक, 17 यातायात कांस्टेबल सहित दो अन्य कर्मी तैनात किए गए। 

 

Posted By: Divyansh Rastogi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस