लखनऊ, राज्य ब्यूरो। प्रदेश सरकार पुष्टाहार उत्पादन इकाई के जरिए महिलाओं को उद्यमी बनाने जा रही है। इसके लिए महिलाओं के माइक्रो एंटरप्राइज गठित करने का निर्णय लिया है। स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को एसोसिएशन आफ पर्सन (एओपी) में पंजीकृत किया जाएगा। ग्राम विकास विभाग ने 43 जिलों के 202 विकास खंडों में पुष्टाहार उत्पादन इकाई की स्थापना के लिए आदेश जारी कर दिए।

अपर मुख्य सचिव, ग्राम्य विकास मनोज कुमार सि‍ंह की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि प्रत्येक इच्छुक व चयनित स्वयं सहायता समूह 30 हजार रुपये का अंशदान पुष्टाहार उत्पादन इकाई की स्थापना के लिए करेंगे। उन्होंने बताया कि 300 समूहों को संगठित करते हुए एओपी बनाया जाएगा। एओपी के गठन के बाद उसका पैन कार्ड का आवेदन व बैंक एकाउंट आदि खुलवाया जाएगा। इसे उद्योगों की तर्ज पर पंजीकरण कराया जाएगा।

प्रत्येक स्वयं सहायता समूह में 20 महिलाओं का चयन किया जाएगा। इसमें 33 फीसद महिलाएं अनुसूचित जाति की रखी जाएंगी। यह महिलाएं राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन द्वारा गठित समूह की सदस्य होनी चाहिए। महिला आठवीं तक शिक्षित होने के साथ ही उनकी उम्र 20 से 40 वर्ष की हो। पुष्टाहार उत्पादन इकाई में दो शिफ्टों में काम होगा। एक परिवार से एक ही महिला का चयन किया जाएगा। 

Edited By: Anurag Gupta