लखनऊ, जेएनएन। ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की लखनऊ में हो रही बैठक पर सवाल उठाते हुए यूपी में योगी सरकार के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री मोहसिन रजा ने कहा कि देश की सबसे बड़ी अदालत का अयोध्या में राम मंदिर पर बड़ा फैसला आने वाला है, ऐसे समय में यह बैठक क्यों रखी गई है। इसका जवाब आयोजन स्थल नदवा कॉलेज और पर्सनल लॉ बोर्ड को देना चाहिए। उन्होंने यह भी पूछा कि छह माह में हैदराबाद के बाद यहां बैठक करने का मकसद क्या है।

शनिवार को मोहसिन रजा ने एक वीडियो जारी कर मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड को एक असंवैधानिक एनजीओ बताया है। उन्होंने कहा कि यह ऐसा एनजीओ है जो हमेशा से देश के खिलाफ काम करता और बोलता रहा है, उसने मुसलमानों को गुमराह करने का काम किया है। इस एनजीओ ने हमेशा से आतंकवाद के समर्थन में और एनआरसी और ट्रिपल तलाक के खिलाफ ही बोला है। चंद लोगों ने इस एनजीओ को बनाया है, इसका रजिष्ट्रेशन है कि नहीं इसकी भी जानकारी नहीं है। इस समय में जब देश में आतंकवाद का पोषण करने के लिए टेरर फंडिंग हो रही है, उस समय में इनकी फंडिंग कहां से हो रही है, इन्हें इसका भी जवाब देना होगा।

केस कोर्ट में किसी पार्टी के सामने नहीं : फरंगी महली

मंत्री मोहसिन रजा के सवालों का जवाब देते हुए ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के वरिष्ठ सदस्य मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली ने कहा कि इस देश में एक संविधान है, जिसने कानून बनाए हैं, जिसकी जानकारी जानकारी सभी को होनी चाहिए। जिसको इन कानूनों की जानकारी नहीं है तो यह उसकी गलती है। जितनी भी संस्थाएं होती हैं उनका रजिष्ट्रेशन होता है और उसके बाद ही वे काम कर सकती हैं। मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड भी सोसाइटी एक्ट में रजिष्टर्ड है। बोर्ड का रिटर्न भी फाइल होता है। बोर्ड अपनी जिम्मेदारी से काम कर रहा है। बैठक से पहले एजेंडा भी जारी किया गया है। उन्होंने कहा कि जो केस लड़ा जा रहा है वह किसी पार्टी के सामने नहीं बल्कि सुप्रीम कोर्ट के सामने लड़ा जा रहा है। उन्होंने कहा कि बोर्ड में जो लोग शामिल हैं, उनके पूर्वजों ने देश की आजादी के लिए जान तक न्यौछावर कर दी है। कभी भी बोर्ड ने मुल्क के खिलाफ न बोला है और न काम किया है। बोर्ड हमेशा से संविधान के दायरे में रहकर कार्य करता है। 

अयोध्या व कॉमन सिविल कोड पर हो रही बैठक

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड कार्यकारिणी की अहम बैठक शनिवार को लखनऊ दारुल उलूम नदवा कॉलेज में आयोजित की गई है। इसमें अयोध्या मसले की सुप्रीम कोर्ट में चल रही सुनवाई व कॉमन सिविल कोड पर विस्तार से चर्चा व आगे की रणनीति तय की जा रही है। बैठक में लीगल कमेटी ट्रिपल तलाक कानून पर अपनी रिपोर्ट पेश करेगी। मौलाना सैयद राबे हसनी नदवी की अध्यक्षता में होने वाली ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड कार्यकारिणी की बैठक में अयोध्या मसले पर विस्तार से चर्चा होगी। बोर्ड के वरिष्ठ सदस्य मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली ने बताया कि तीन तलाक पर केंद्र सरकार ने कानून बनाया है। इसे पर्सनल लॉ बोर्ड ने अपनी लीगल कमेटी के पास भेजा था। इस पर कमेटी अपनी रिपोर्ट पेश करेगी। उन्होंने बताया कि आजकल कॉमन सिविल कोड की चर्चा हो रही है। इस पर भी कार्यकारिणी की बैठक में विस्तार से चर्चा होगी।

Posted By: Umesh Tiwari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप