लखनऊ, जेएनएन। घर वापसी की आस में पैदल व साइकिल से आ रहे प्रवासी कामगारों की मुश्किलों को पुलिस कुछ कम करेगी। प्रवासी कामगारों के साथ बढ़ती सड़क दुर्घटनाओं ने भी पुलिस की चिंता बढ़ाई है। उत्तर प्रदेश के डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी ने ऐसे प्रवासी कामगारों की मदद के कड़े निर्देश दिए हैं। यह भी कहा है कि पैदल व साइकिल से आ रहे प्रवासियों के साथ पुलिसकर्मी पूरी संवेदना रखें और अच्छा व्यवहार करें।

डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी ने शुक्रवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए लॉकडाउन की व्यवस्थाओं की समीक्षा की। अलग-अलग जिलों में की जा रही कार्रवाई की भी सिलसिलेवार समीक्षा की। डीजीपी ने इस मौके पर मथुरा बैंक लूट की घटना के दृिष्टगत सभी जगह बैंकों के आसपास सतर्कता व गश्त बढ़ाने के निर्देश दिए।

डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी ने कहा कि विभिन्न प्रदेशों से पैदल व साइकिल से आने वाले प्रवासी कामगारों को रोककर जिला प्रशासन के समन्वय से उन निर्धारित स्थानों तक पहुंचाया जाए, जहां से उन्हें बसों से मंजिल तक भेजा जाना है। डीजीपी ने कहा कि कामगारों से अत्यंंत शालीनता से पेश आने की जरूरत है। कहीं बदसलूकी की शिकायत मिली तो संबंधित पुलिसकर्मियों पर कठोर कार्रवाई की जाएगी।

डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी ने कहा कि 112 की पीआरवी कामगारों की मदद के साथ-साथ घटनाओं की रोकथाम के लिए प्रभावी पेट्रोलिंग करें। डीजीपी ने दुर्घटनाओं को देखते हुए यातायात नियमों का पालन सुनिश्चित कराने पर भी जोर दिया। कहा कि बैंकों में लोगों के बढ़ते आवागमन को देखते हुए पुलिस प्रबंध और मजबूत किए जाए। पुलिसकर्मियों को संक्रमण से बचाने के लिए दिए गए निर्देशों का भी कड़ाई से पालन कराने के निर्देश दिए गए। इस दौरान एडीजी कानून-व्यवस्था पीवी रामाशास्त्री, आइजी कानून-व्यवस्था ज्योति नारायण व अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

Posted By: Umesh Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस