लखनऊ, जेएनएन। इत्तेहादुल मिल्लत काउंसिल उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के साथ आ गई है। इत्तेहाद मिल्लत काउंसिल, बरेली के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौलाना तौकीर रजा ने लखनऊ में सोमवार को उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यालय में कांग्रेस के साथ आने की घोषणा करने के सात ही समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को बेहद गैर जिम्मेदार नेता बताया।

इत्तेहाद -ए-मिल्लत काउंसिल के मुखिया मौलाना तौकीर रजा ने विधानसभा चुनाव में अपनी पार्टी की ओर से कांग्रेस को बिना शर्त समर्थन देने की घोषणा की है। मौलाना तौकीर रजा ने लखनऊ में प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यालय में मीडिया को भी संबोधित किया। बरेली के मौलाना तौकीर रजा ने कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के राष्ट्रीय संयोजक आजम बेग तथा यूपी कांग्रेस अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के हेड शाहनवाज आलम के साथ प्रेस कान्फ्रेंस की। इसमें मौलाना ने उत्तर प्रदेश के चुनाव में देश की सबसे पुरानी पार्टी के साथ रहने की घोषणा की। बरेली के आला हजरत से ताल्लुक रखने वाले मौलाना तौकीर रजा इत्तेहादुल मिल्लत काउंसिल के प्रमुख भी हैं।

मौलाना तौकीर रजा ने समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को एक गैर जिम्मेदार नेता बताया। उन्होंने कहा कि उनके हाथ गैर जिम्मेदार हाथ हैं। हम किसी भी कीमत पर प्रदेश की बागडोर गैर जिम्मेदाराना हाथों में नहीं जाने देंगे। अखिलेश यादव तो देश व प्रदेश के मुसलमानों के लिए भाजपा से भी खराब हैं। तौकीर रजा ने कहा कि प्रदेश को यादववाद और जाटववाद के बजाय मानववाद की जरूरत है। हमने अखिलेश यादव से कहा की 2012 में जो उनकी सरकार ने गलतियां की, उसे सुधारें लेकिन हमने उन्हें गैरजिम्मेदार पाया।

प्रदेश कांग्रेस कमेटी कार्यालय में मीडिया से मुखातिब मौलाना ने कहा कि हमारे चुनाव लड़ने से फिरकापरस्त ताकतों को फायदा होता। मौलाना तौकीर रजा ने कहा कि हम तो हमेशा कांग्रेस के ही साथ रहे लेकिन कुछ लोगों की गलतफहमी से हम लोग कांग्रेस से दूर हुए थे। उन्होंने कहा कि हमने देश में कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी और प्रियंका गांधी को सच्चा सेक्युलरिस्ट पाया है। हमको तो कांग्रेस के हाथों को मजबूत करने का काम करना है। देश तथा प्रदेश की भलाई के लिए कांग्रेस का आना जरूरी है। उत्तर प्रदेश में एक बार फिर भाजपा सरकार की मनहूसियत से बचाने को उन्हें रोकना जरूरी। लिहाजा आइएमसी इस बार खुद चुनाव न लड़के कांग्रेस को समर्थन देगी। हमने हमेशा कांग्रेस के खिलाफ माहौल बनाया जिसका फायदा भाजपा को मिला। इससे देश का नुकसान हुआ। हमारी जिम्मेदारी थी लेकिन हमने देश को गलत हाथों में दिया।

मौलाना ने कहा कि हमने सपा समेत कई पार्टियों से मुलाकात की, लेकिन प्रियंका गांधी से मिल कर अहसास हुआ कि हमने कितनी गलती की। 2009 में भी हमने कांग्रेस को समर्थन दिया था। कांग्रेस के प्रियंका व राहुल सच्चे धर्म निरपेक्ष हैं। तौकीर रजा ने कहा कि सपा मुखिया ने आज तक मेरे प्रश्नों का जवाब नही दिया। प्रियंका गांधी ने दंगा जांच आयोग बनाने का आश्वासन दिया। उन्होंने कहा कि अखिलेश की सरकार मुसलमानो के लिए सबसे खराब सरकार होगी। इसलिए हम सबको मानव वाद की राजनीति करनी चाहिए। कांग्रेस गैर भाजपाई सरकार के लिए समर्थन लेने या देने के रास्ते खुले रखे।

यूपी के साथ अन्य राज्यो में भी हम साथ देंगे। कांग्रेस के हाथों में देश प्रदेश देश महफूज रहेगा। भजपा ने देश का नुकसान किया है। उसकी भरपाई के लिए एकमात्र रास्ता कांग्रेस के साथ जाने में है। जहां जरूरत होगी वहाँ हम जाएंगे। 2022 के साथ 2024 भी जीतेंगे।

मौलाना तौकीर रजा ने चंद दिनों पहले ही बरेली के इस्लामिया मैदान में मुस्लिम धर्म संसद का भी आयोजन किया था। जिसमें 25000 से अधिक तादाद में लोग एकत्र हो गए थे। यहां पर मौलाना तौकीर मियां को मुस्लिम धर्म संसद के लिए प्रशासन ने सिर्फ 300 आदमी एकत्र करने की अनुमति दी थी।

Edited By: Dharmendra Pandey