लखनऊ, जेएनएन। यूपी बोर्ड परीक्षा में नकल करने व कराने वालों की खैर नहीं। सभी जिलों को नकल माफियाओं पर शिकंजा कसने व त्वरित गति से कड़ी कार्रवाई के सख्त निर्देश दिए गए हैं। हर परीक्षा केंद्र की सीमा तय करके उसमें परीक्षार्थी व परीक्षा से जुड़े शिक्षक-कर्मचारियों को ही प्रवेश दिया जाएगा। बाहर से नकल कराने में वहां का सेक्टर मजिस्ट्रेट जिम्मेदार होगा। 

उप मुख्यमंत्री डा. दिनेश शर्मा ने लखनऊ के योजना भवन में यूपी बोर्ड की हाईस्कूल व इंटर परीक्षा 2019 की तैयारियों की समीक्षा करते हुए यह निर्देश दिए। वीडियो कांफ्रेंसिंग में अधिकारियों को निर्देश दिया कि परीक्षा केंद्रों में जिस स्थान पर प्रश्नपत्र रखे जाएंगे, वहां 24 घंटे सीसीटीवी कैमरे से निगरानी की जाए। प्रदेश भर में इस बार कोडिंग युक्त कॉपियों पर परीक्षा हो रही है, इसलिए उन उत्तर पुस्तिकाओं का रखरखाव व आवंटन सही तरीके से हो। उन्होंने कहा कि परीक्षार्थियों के तनावमुक्त व शांतिपूर्ण वातावरण में परीक्षा देने और शिक्षकों के सम्मान की रक्षा के भी इंतजाम किए जाएं। ज्ञात हो कि यूपी बोर्ड परीक्षा सात फरवरी से शुरू हो रही है। 

डा. शर्मा ने निर्देश दिया कि हर परीक्षा केंद्र पर एक स्टैटिक मजिस्ट्रेट नियुक्त होगा, सेक्टर मजिस्ट्रेट/सचल दलों को जिला प्रशासन तैनात करेगा। परीक्षा में लगे केंद्र व्यवस्थापक, कक्ष निरीक्षक, अन्य कर्मियों व परीक्षार्थियों के अतिरिक्त अन्य किसी का भी प्रवेश नहीं होगा। परीक्षा शुरू होने से पहले संवेदनशील केंद्रों की पहचान डीएम की अध्यक्षता में होगी और वहां विशेष निगरानी की की जाएगी। 

पढ़ाई पर अफसर दें विशेष जोर

डा. शर्मा ने मंडलीय व जिले के अधिकारियों से कहा कि वे विद्यालयों में सुचारू पठन पाठन सुनिश्चित करने के लिए शैक्षिक पंचांग के अनुसार नियमित पढ़ाई का जायजा लें। उन्होंने कहा कि राजकीय व अशासकीय माध्यमिक विद्यालयों में 31 मार्च 2019 को सेवानिवृत्त हो रहे शिक्षक एवं शिक्षणेत्तर कर्मचारियों के देयों का समयबद्ध भुगतान कराया जाए। 

छात्र-छात्राओं को करें प्रेरित 

डा. शर्मा ने कहा कि 29 जनवरी को प्रधानमंत्री परीक्षा पर चर्चा कार्यक्रम तालकटोरा स्टेडियम, नई दिल्ली में हो रहा है। डीआइओएस वेबसाइट पर आयोजित प्रतियोगिता के लिए कक्षा 9 से 12 तक के छात्र-छात्राओं, शिक्षकों व अभिभावकों को प्रतिभाग करने के लिए प्रेरित करें। वेबसाइट पर प्रतियोगिता में 17 जनवरी तक ही प्रतिभाग किया जा सकेगा। 120 छात्र-छात्राओं, 24 शिक्षक व इतने ही अभिभावकों का चयन राज्य स्तरीय समिति की ओर से किया जाएगा। चयनित 29 जनवरी के कार्यक्रम में प्रतिभाग करेंगे। इसको सभी विद्यालयों में टेलीविजन के माध्यम से देखे जाने की व्यवस्था करने के निर्देश दिए। यहां अपर मुख्य सचिव माध्यमिक व उच्च शिक्षा राजेंद्र कुमार तिवारी, निदेशक माध्यमिक शिक्षा वीके पांडेय, विशेष सचिव चंद्र विजय सिंह, यूपी बोर्ड सचिव नीना श्रीवास्तव आदि रहे। 

Posted By: Nawal Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप