लखनऊ, जेएनएन। आलमबाग पुलिस ने सोमवार को नकली नोट बनाने वाले गिरोह का राजफाश किया है। 50 और 100 रुपए के 21,750 रुपए के जाली नोट के साथ दो अभियुक्तों को गिरफ्तार किया गया है। पकड़े गए लोगों में सर्पोटगंज निवासी रामकमल यादव व गोसाईंगंज निवासी सतीश कुमार पांडेय हैं। 

दोनों अभियुक्तों के कब्जे से 72 नोट छापने के कागज, एक नोट काटने का कटर, असली नोट की कागज पर बनी डाई, रबड़ बैंड समेत नोट बनाने के अन्य उपकरण बरामद किए गए हैं। दोनों अभियुक्तों ने पुलिस पूछताछ में बताया कि पूर्व में अपने गिरोह के सरगना राघवेंद्र उर्फ राजू के साथ विभूतिखंड थाने से जेल गए थे। तब भी जाली नोट बनाने में पकड़े गए थे। नोट छापने के बाद गिरोह के सदस्य इसकी बड़ी खेप सप्लाई करने का काम करते हैं। दोनों अभियुक्तों को मुखबिर की सूचना पर सोमवार दोपहर थाना क्षेत्र स्थित गीतापल्ली ढाल के पास से गिरफ्तार किया गया।

सरगना के जेल जाने के बाद खुद शुरू किया काम

पकड़े गए दोनों अभियुक्तों ने बताया कि सरगना राघवेन्द्र के नकली नोट में पकड़े जाने के बाद जेल जाने पर खुद नोट छापने लगे। सतीश पांडेय संविदा पर बिजली कर्मी है और रामकमल पूर्व में नौकरी के नाम पर कई लोगों से ठगी कर चुका है।

इस टीम को उच्चाधिकारी करेंगे पुरस्कृत

पुलिस टीम में शामिल आलमबाग कोतवाली प्रभारी आनंद शाही, अतिरिक्त प्रभारी निरीक्षक ऋ षिदेव सिंह, दारोगा धर्मेन्द्र कुमार समेत अन्य पुलिसकर्मियों को सम्मान देने की घोषणा हुई है।

नोट लेने वालों की तलाश

इंस्पेक्टर आलमबाग ने बताया कि चार लोगों के नाम प्रकाश में आये हैं, जो दोनों आरोपितों से नकली नोट लेते थे। उन्हें गिरफ्तार करने का प्रयास किया जा रहा है।  

Posted By: Anurag Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस