सीतापुर, संवाद सूत्र। खरगापुर में पंखे में उतरे करंट से मां-बेटे की मौत हो गई। मां, पंखे से चिपके बेटे को बचाने पहुंची थी। परिवार के अन्य सदस्यों ने मां बेटे को पंखे से चिपका देखा तो बिजली के तार अलग किए। हादसे का पता चला तो पास-पड़ाेसी जमा हो गए। सूचना पर पहुंची पुलिस ने पीड़ितों के बयान दर्ज किए। खरगापुर निवासी नंदराम लखनऊ में मजदूरी करता है।

बुधवार को नंदराम, अपनी दो बेटियों को लेकर लखनऊ गया था। घर में उसकी पत्नी रीना देवी, चार बेटे और एक बेटी थी। बुधवार को पड़ोसी हेमनाथ के पोते का मुंडन था। देर रात नाच-गाने का कार्यक्रम हुआ। सभी ने रात में कार्यक्रम देखा और सुबह करीब सात बजे घर  आए। मां रीना चाय बनाने लगी। 10 वर्षीय शिवम पंखे को बंद करने गया और करंट की चपेट में आ गया। बेटे को छटपटाते देख मां रीना उसे छुड़ाने पहुंची। वह भी करंट की चपेट में आ गई। दोनों की मौके पर ही मौत हो गई। बताया जा रहा है कि पंखे के पास ही साइकिल रखी थी। 

पंखा और साइकिल दोनों में करंट आ रहा था।  कुछ देर बाद घर के अन्य सदस्यों ने रीना और शिवम को पंखे में चिपके देखा तो बिजली के तार हटाए गए। हादसे की सूचना  पर एसडीएम मिश्रिख अनिल कुमार, कल्ली चौकी इंचार्ज हर्षित कुमार सिंह, कानून गो अजय दीक्षित, लेखपाल अभिमन्यु गांव पहुंचे। पीड़ित परिवार काे हर संभव मदद का आश्वासन दिया।

हादसे से परिवार में मातम, गुस्से में ग्रामीणः मां-बेटे की मौत से नंदराम के परिवार की खुशियां बिखर गई। पास-पड़ोसियों से खबर पाकर वह गांव के लिए निकला। परिवार में मातम का माहौल है। उधर, हादसे का पता चला तो सगे-संबंधी भी पहुंचे हैं। रोते-बिलखते परिवार को ढांढस बंधाया जा रहा है।

Edited By: Vikas Mishra

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट