लखनऊ, जागरण संवाददाता। अस्सी रुपये किलो का आंकड़ा पार कर चुके टमाटर की सुर्खी करीब हफ्तेभर में कम हो जाएगी। वजह यह है कि आगामी मंगलवार से हल्द्वानी से आने वाले टमाटर की खेप मंडियों में आनी शुरू हो जाएगी। इसके साथ ही कीमतें धड़ाम होना तय है। मौजूदा वक्त टमाटर 80 रुपये प्रति किलो का आंकड़ा पार कर चुका है। यही हाल सरसों का है। इसके भाव भी आसमान छू रहे हैं। अब पीली सरसों 90 रुपये किलो बाजार में बिक रही है। इसके चलते सरसों के तेल का रेट भी घटने का नाम नहीं ले रहा है।

90 रुपये किलो पीली सरसोंः 70 से 80 तक बिकने वाली पीली सरसों का भाव इस समय आसमान पर है। फसल बेहतर होने के बाद भी कीमतें घटने का नाम नहीं ले रही हैं। पीली सरसों 90 रुपये किलो यानी 9,000 क्विंटल बिक रही है। करीब तीन से चार माह पहले सरसों 60 से 65 रुपये किलो मिल रही थी। नतीजतन बैल कोल्हू फुटकर मंडी में 180 से 185 रुपये लीटर बाजार में बिक रहा है।

   सरसों                                  पहले         अब (प्रति क्विंटल) 

  • पीली सरसों                   6,000       6,500 -9,000
  • काली सरसों                  5,200       5,500 -8,300
  • फुटकर मंडी 
  • खाद्य तेल                       पहले        अब (प्रति लीटर)
  • सरसों बैल कोल्हू             180         180 से 185
  • रिफाइंड ऑयल फारच्यून  150         145

थोक मंडी में 48 रुपये से 65 रुपये प्रति किलो का भावः दुबग्गा मंडी के आढ़ती शाहनवाज हुसैन बताते हैं कि टमाटर में तेज है। लेकिन हल्द्वानी वाली खेप आते ही आगामी चार पांच दिनों में भाव काफी नीचे आ जाएंगे। थोक मंडी में करीब 48 रुपये किलो टमाटर बिका है।

सरसों का तेल घटने का नाम नहीं ले रहा है। पांच रुपये लीटर की तेजी फिर से है। बैल काेल्हू थोक मंडी 2,720 रुपये का 15 लीटर का टिन है वहीं फारच्यून रिफाइंड थोक में 15 लीटर का टिन 2080 रुपये का है। -विपुल अग्रवाल, थोक कारोबारी खाद्य तेल

Edited By: Vikas Mishra