लखनऊ, (अनुज शुक्ल)। सौ फीसद ऑनलाइन टैक्स के लिए फास्टैग अनिवार्य करने के लिए बाद अब नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एनएचएआइ) ने ओवरलोडिंग पर नकेल कसना शुरू कर दिया है। यह कदम तय समय से पहले गड्ढों में तब्दील हो रहे राज्य, नेशनल हाईवे और एक्सप्रेस वे सुरक्षित रखने के लिए उठाया गया है। अब फास्टैग की तरह ही हरेक राष्ट्रीय राजमार्ग के टोल प्लाजा पर वेट इन मोशन (विम) मशीन लगाई जा रही है, जिसके ऊपर से ही माल ढुलाई वाले वाहन गुजरेंगे। यह मशीन उनके वजन का आकलन करेगी। निर्धारित मानक से अधिक भार होने पर दो से 10 गुना तक टोल टैक्स वसूला जाएगा। केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्रालय का टारगेट है कि मार्च 2020 तक हर टोल वीम मशीन लैस कर ओवरलोडिंग पूरी तरह रोकी जाए।

वजन के हिसाब से लगेगा जुर्माना

ओवरलोडिंग करने वाले वाहनों के लिए भार प्रतिशत के हिसाब से टोल पर जुर्माना तय है। अगर निर्धारित सीमा से 20 फीसदी तक अधिक माल है तो दोगुना टोल टैक्स, 20 से 40 फीसदी पर चार गुना, 40 से 60 फीसदी पर छह गुना, 60 से 80 फीसदी होने पर आठ गुना और 80 फीसदी से अधिक होने पर 10 गुना टोल टैक्स देना होगा।

ऐसे काम करेगी विम मशीन

वेट इन मोशन (विम) मशीन टोल की लेन में फिट रहेगी। प्लेटफार्म पर वाहन पहुंचते ही वजन हो जाएगा। कंप्यूटर वाहन की प्रकृति (छोटा-बड़ा) के हिसाब से उसका वजन घटाकर उस पर लदे माल का वजन बता देगा। विम के सॉफ्टवेयर में सभी प्रकार के वाहनों का वजन और उन पर माल लदान की अनुमति का ब्योरा दर्ज रहेगा। तय वजन से ज्यादा माल की लदान मिलने पर जुर्माना के साथ टोल पर्ची जारी होगी।

आशंका पर दोबारा वजन करा सकेंगे चालक

हाईवे निर्माण कंपनी टोल बूथ पर वेट इन मोशन प्लेटफार्म वाले टोल पर अलग से धर्मकांटा भी लगाएगी। इसका उपयोग वाहन स्वामी या चालक की आपत्ति पर वाहन का दोबारा वजन करने के लिए होगा। इस तरह के धर्मकांटा (एसडब्ल्यूसी मशीन) लगभग सभी टोल प्लाजा पर लगेंगे।

मौके पर उतारा जाएगा अतिरिक्त माल

ओवरलोड माल को टोल प्लाजा पर ही गिराया लिया जाएगा। अनलोड माल के लिए जगह और उसकी सुरक्षा के लिए सीसीटीवी की व्यवस्था होगी।

खनन और ओवर लोड की शिकायत वाले मार्ग पर विशेष नजर

खनन वाले इलाकों से गुजरने वाले रास्तों पर पडऩे वाले टोल प्लाजा को एनएचएआइ ने प्राथमिकता पर रखा है। इन टोल पर विम का काम पूरा हो गया है। अब अन्य मार्ग पर भी काम शुरू कर दिया है। एनएचआइ के परियोजना निदेशक नरसिंह नारायण गिरी ने बताया, वेट इन मोशन (विम) तकनीक से कुछ टोल प्लाजा पर जुर्माना वसूली शुरू कर दी गई है। कुछ पर काम चल रहा है। मार्च 2020 तक सब पर विम लग जाएगी, जो ओवर लोड वाहनों की धरपकड़ के लिए बहुत उपयोगी है।

इटौंजा टोल पर कागजों के फेर में लटकी मशीन

सीतापुर-लखनऊ राजमार्ग स्थित इटौंजा मानपुर राजा टोल प्लाजा पर कागजों के फेर में विम मशीन नहीं लग सकी है। परियोजना प्रबंधक राजेश पाठक ने बताया कि टोल पर डब्ल्यूबी मशीन ने ओवरलोड वाहनों की तौल की जा रही है। कुछ ऐसा ही हाल निगोहां टोल प्लाजा का भी है, विम का काम अधूरा है।  

Posted By: Anurag Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस