हरदोई, संवाद सूत्र। तीन दिन पूर्व घर से दवा लेने के लिए निकली मां-बेटी के शव छह किलोमीटर की दूरी पर नहर में मिले। मां का शव बहते हुए मल्लावां क्षेत्र के सराय सुल्तान में आ गया और बेटी का शव उन्नाव के बेहटा मुजावर के ग्राम गोसा कुतुब में मिला। पुलिस ने दोनों शवों को नहर से निकलवाकर स्वजन को घटना की जानकारी दी, जिसके बाद स्वजन में कोहराम मच गया।

उन्नाव के थाना बेहटा मुजावर के ग्राम मंगूखेड़ा की सुषमा देवी 15 अक्टूबर को बेटी क्षमा देवी के साथ दवा लेने के लिए नसीरपुर जाने के बात कहकर निकली थीं। सुषमा के पुत्र प्रसून ने बताया कि देर शाम तक जब मां और बहन वापस नहीं लौटी तो उनकी तलाश की गई, लेकिन कुछ पता नहीं चला। रविवार को नसीरपुर से तीन किलोमीटर दूर बरौना नहर पुल पर मां और बहन की चप्पलें रखी हुई थी। इसके बाद थाना बेहटा मुजावर में दोनों की गुमशुदगी दर्ज कराई। पुलिस और स्वजन ने मां-बेटी की नहर में तलाश शुरू की। सोमवार को नहर के किनारे उनकी तलाश कर रहे थे। मल्लावां क्षेत्र के ग्राम सराय सुल्तान में दोपहर में मां सुषमा देवी का शव उतराता मिला। स्वजन ने पुलिस को घटना की जानकारी दी। इसके बाद छह किलोमीटर दूर बेहटा मुजावर के ग्राम गोसा कुतुब में नहर में बेटी क्षमा देवी का भी शव मिल गया। मल्लावां कोतवाल सुनील कुमार सिंह ने बताया कि प्रथम दृष्टया आत्महत्या का मामला लग रहा है। दोनों की गुमशुदगी थाना बेहटा मुजावर में दर्ज है। मामले की जांच कर आगे की कार्रवाई की जाएगी।

बच्चों के नहीं थम रहे आंसू : पिता की मौके के बाद मां सुषमा देवी ने पुत्र प्रसून, प्रमोद, शिवम और पुत्री क्षमा का पालन पोषण किया। अचानक से मां और बहन घर से निकली और सोमवार को दोनों के शव मिले, जिसके बाद से पुत्रों के आंसू थमने का नाम नहीं ले रहे हैं।

रविवार को कलवारी महमदाबाद में दिखा था किशोरी का शव: कलवारी महमदाबाद में रविवार को मछली पकड़ने वाले लोग नहर में जाल डाले थे, उन लोगों ने किशोरी के शव को नहर में बहते हुए देखा था, लेकिन नहर का बहाव तेज होने के कारण शव निकल गया।

 

Edited By: Rafiya Naz