लखनऊ। केंद्रीय गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे ने सीमा पर बलिदान होने वाले मथुरा के दस जवानों की वीर नारियों को सम्मानित किया और पश्चिम यूपी के जवानों के लिए मथुरा में बीएसएफ की नयी बटालियन का शिलान्यास किया। जवानों के लिए ट्रेन में विशेष बोगी, रिटायर्ड जवानों को विशेष दर्जा देने का भी एलान किया।

श्री शिंदे मंगलवार मथुरा में कहा कि हमने देखा है बॉर्डर। दुश्मन हों या फिर मौसम, जान हथेली पर रखकर मुस्तैद जवान। देश के लिए बलिदान की बेकरारी। ऐसे जवानों को अपने परिवार की भी याद आती होगी। इसीलिए भारत सरकार हर राज्य में बीएसएफ की बटालियन स्थापित कर रही है। उत्तर प्रदेश में ये पांचवीं और पश्चिम यूपी में ये पहली बटालियन होगी। गृहमंत्री ने यूपी के जवानों की तारीफ करते हुए कहा कि ब्रिटिश काल से ही उत्तर प्रदेश के रणबांकुरे मार्शल के रूप में जाने जाते रहे हैं।

बीएसएफ में ही यूपी के करीब 36 हजार जवान हैं, जिसमें दस हजार तो पश्चिम यूपी के ही हैं। इस दौरान उन्होंने मथुरा जिले के दस शहीदों को याद करते हुये उनकी वीर नारियों को सम्मानित भी किया।

जवानों के लिए सहूलियतों की घोषणा करते हुए श्री शिंदे ने बताया कि मई से सात ट्रेनों में जवानों के लिए दो विशेष बोगियां लगायी जाएंगी। रिटायर्ड जवानों को सीएपीएफ (सेंट्रल आर्मी पुलिस फोर्स) का दर्जा दिया जाएगा। दुर्गम स्थलों पर तैनात जवानों को हार्डशिप अलाउंस दिया जाएगा। इसके साथ ही नोएडा में बीएसएफ का महानिरीक्षक और इलाहाबाद में उपमहानिरीक्षक कार्यालय भी मंजूर किया गया है।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर