लखनऊ, जेएनएन। पुलिस हिरासत और मुठभेड़ में निर्दोष लोगों की मौत पर आक्रोश व्यक्त करते हुए समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा लोकतंत्र का मखौल बना रही है। उन्होंने तंज किया कि जनता के लिए पुलिस हत्या का पर्याय बन गई है। केवल नोडल अफसर बना देने से ही कानून व्यवस्था नहीं सुधरेगी।

मंगलवार को जारी बयान में उन्होंने कहा कि हत्या प्रदेश में पुलिस जनता को सुरक्षा देने में नाकाम है। अखिलेश ने हापुड़ में प्रदीप तोमर की निर्ममता से पुलिस हिरासत में पीट-पीटकर हत्या करने, झांसी में पुष्पेंद्र यादव का फर्जी एनकाउंटर, इटावा में पत्रकार अजितेश मिश्रा की पत्नी की हत्या और बदायूं में ब्रजपाल मौर्य की हिरासत में मौत का जिक्र करते हुए कहा कि न जाने कौन और कितने निर्दोषों को पुलिस अपना शिकार बनाएगी। उन्होंने कहा, केवल सरकारी विज्ञापनों में मजबूत कानून व्यवस्था व खुशहाली जैसे दृश्य दिखते हैं, जबकि सच्चाई इससे इतर है। झूठ के पर्दे में ज्यादा दिनों तक सच नहीं छुपाया जा सकेगा।

अखिलेश ने कहा कि सपा शासन में बनाई व्यवस्थाओं को भाजपा सरकार ने बर्बाद कर दिया है। अर्थव्यवस्था के साथ सामाजिक व्यवस्था भी ध्वस्त है। भाजपा अपना राजनीतिक स्वार्थ साधने में ही लगी है। यह राजनीति का स्याह पक्ष है जो न सिर्फ अनैतिक है बल्कि भोली-भाली जनता के साथ धोखा है।

छात्रसंघ बहाली को समर्थन

अखिलेश ने कहा है कि इलाहाबाद विश्वविद्यालय में छात्र संघ बहाली की मांग कर रहें छात्र-छात्राओं पर सुरक्षाकर्मियों द्वारा लाठीचार्ज कराने की भत्र्सना की। लोकतांत्रिक अधिकारों पर हमला बताते हुए उन्होंने छात्रसंघों की बहाली का समर्थन किया।

Posted By: Umesh Tiwari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप