लखनऊ [राज्य ब्यूरो]। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने चेतावनी देते हुए कहा है कि कोरोना संकट काल में प्रबंधन में भारी नाकामी से शहरों व गांवों में हो रही मौतों से आक्रोशित जनता भारतीय जनता पार्टी की सरकार को सबक सिखाएगी। पश्चिम बंगाल की कहानी यूपी में दोहरायी जाएगी। सपा प्रमुख ने कहा कि भाजपा सरकार का डरावना चेहरा जनता के सामने आ चुका है जनता इसे कभी माफ नहीं करेगी।

रविवार को जारी बयान में सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने आरोप लगाया कि पंचायत चुनाव में पिछड़ जाने से खिसियायी व बिलबिलायी भाजपा जनता से बदला लेने के लिए आपदा में आपदा खड़ी करने के फार्मूले पर उतर आई है। सरकार की नीति और नीयत में खोट के चलते देश और प्रदेश महंगाई की मार से कराह रहा है। संवेदनशून्य भाजपा ने केवल अपना घर भरने और सत्ता सुख के संसाधन जुटाने में चार साल बिता दिए हैं। आज भी भाजपा इसी एजेंडा पर काम कर रही है।

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने आरोप लगाया कि भयावह हालात में गुजरते प्रदेश वासियों को राहत देने की बजाए सरकार ने बिजली दरों में वृद्धि का भी इरादा कर लिया है। बड़ी कंपनियों की समर्थक भाजपा को गरीब की नहीं अमीरों की तिजोरियां भरने की ज्यादा चिंता रहती है। इसलिए सभी श्रेणी के विद्युत उपभोक्ताओं पर रेगुलेटरी सरचार्ज लगाने को कहा है। इससे बिजली 12 प्रतिशत तक महंगी हो जाएगी।

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने किसानों पर लाठीचार्ज की निंदा की है। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि 'हिसार में किसानों पर अहंकारी भाजपा सरकार का लाठीचार्ज बेहद शर्मनाक ही नहीं, घोर निंदनीय भी है। कोरोना के इस संकट काल में भाजपा सरकार दिखावटी उद्घाटनों में उलझी है, जिसके कारण जनाक्रोश चरम पर है। शोक में उत्सव सिर्फ भाजपा ही मना सकती है।' बता दें कि हिसार में एक बार फिर किसानों ने सीएम मनोहर लाल खट्टर के दौरे का विरोध किया और बदले में उन्हें पुलिस की लाठियां खानी पड़ी। सीएम खट्टर हिसार में कोविड अस्पताल का उद्घाटन करने पहुंचे थे, इसी दौरान हालात बिगड़ गए।