लखनऊ, जेएनएन। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार के खिलाफ लगातार हुंकार भर रही कांग्रेस अब पूरे जोश के साथ सत्ता संघर्ष के लिए उतरने वाली है। मिशन यूपी को धार देने के लिए प्रदेश की नई टीम को पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी के संसदीय क्षेत्र रायबरेली में तीन दिन तक प्रशिक्षित किया जाएगा। आगे की रणनीति और दांव-पेंच समझाने के लिए राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका वाड्रा का आना प्रस्तावित है।

हाल ही में कांग्रेस ने प्रदेश में नई कमेटी का गठन किया है। ज्यादातर नए और युवा कार्यकर्ताओं वाली इस टीम को प्रशिक्षित करने की जरूरत भी पार्टी ने समझी है। इसके लिए 22, 23 और 24 अक्टूबर को रायबरेली स्थित भुएमऊ गेस्ट हाउस में प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है। चूंकि कांग्रेस अभी से विधानसभा चुनाव 2022 की तैयारी में सक्रियता से जुट गई है, इसलिए राष्ट्रीय पदाधिकारियों द्वारा नए पदाधिकारियों को लगातार संघर्ष की रणनीति यहां समझाई जाएगी। साथ ही क्षमता और रुचि के अनुसार काम का बंटवारा भी किया जाएगा। रायबरेली में कार्यक्रम की तैयारी शुरू हो गई है।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने बताया कि सरकार की गलत नीतियों के खिलाफ लगातार सड़क पर संघर्ष की रणनीति तय की जानी है। कार्यकर्ताओं को मार्गदर्शन देने के लिए प्रियंका वाड्रा के आने की पूरी संभावना है।

सीतापुर जा सकती हैं प्रियंका

कांग्रेस की प्रदेश प्रभारी प्रियंका वाड्रा यदि तीन दिवसीय प्रवास पर रायबरेली आती हैं तो पूरी संभावना है कि वह सीतापुर जाकर कमलेश तिवारी के परिवारीजन से भी मुलाकात करें। इसके अलावा दीपावली के बाद कांग्रेस कमलेश तिवारी हत्याकांड सहित अन्य मुद्दों पर पदयात्रा की रूपरेखा भी बना रही है।

Posted By: Umesh Tiwari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप