लखनऊ, [हितेश सिंह]। महंगी शराब, होटलों में खाने के शौक व गर्लफ्रेंड की जरूरतों को पूरा करने के लिए सात युवक शातिर चोर बन गए। सातों ने जानकीपुरम समेत शहर के अन्य इलाकों में चोरी की घटनाओं को अंजाम देते थे। इनके चोरी करने का तरीका भी बेहद निराला था। ये अपने हाथों में डंडा व चाकू रखते थे। जिन घरों में चोरी करते थे पहले वहां लगे सीसी कैमरों को गायब करते थे। जानकीपुरम थाना प्रभारी कुलदीप सिंह गौर ने बताया कि पकड़े गए सातों युवक बेहद शातिराना तरीके से चोरी की घटनाओं को अंजाम देते थे।

चोरी करने से पहले घर से दूर ही हाथों में लिए डंडे से सड़क को पीटते थे, डंडा पीटने की आवाज से कोई जग जाता था तो यह उस पर हमला भी कर देते थे। अगर घर में कई लोग एक साथ जाग जाते थे तो फिर ये भाग भी जाते थे। सातों में किसी की उम्र 20 तो किसी की 23 है। कोई आठ तक पढ़ाई किया है तो कोई हाईस्कूल फेल। चार ऐसे हैं जिनके खिलाफ पहले से ही मुकदमे दर्ज हैं। गिरोह ने जानकीपुरम, विकासनगर, गुड़म्बा, मड़ियांव समेत शहर के अन्य हिस्सों में चोरी की घटनाओं को अंजाम दे चुके हैं।

सातों चोर को पुलिस ने दौड़ाकर पकड़ा: जानकीपुरम पुलिस में गुरुवार को सात आरोपित चोरों को गिरफ्तार किया है। इनके पास से चोरी का माल भी बरामद किया है। जानकीपुरम थाना प्रभारी कुलदीप ङ्क्षसह गौर ने बताया कि मुखबिर ने सूचना दी की सात लोग किसी सामान के बंटवारे को लेकर आपस में चर्चा कर रहे हैं। पुलिस टीम तुरंत इंजीनियङ्क्षरग कालेज के पास से पहुंच गई। पुलिस को देख सातों सामान छोड़कर भागने लगे, पुलिस टीम ने सभी को दौड़ाकर दबोच लिया। गिरफ्तार किए गए आरोपित चोरों में जानकीपुरम विस्तार का आफाक व ईशान बाजपेयी, बीकेटी का अमन राजपूत, गुड़म्बा का रवि पांडेय और सोनू गुप्ता, विकासनगर का लतीफ और मडिय़ावं का संदीप शामिल है। इनके पास से चोरी का कैमरा, एलइडी मानीटर, डीवीआर सिस्टम, माउस, दो मोबाइल फोन, लोहे की सरिया, टार्च, दो रिंच, दो चाभी का गुच्छा और बांस का डंडा बरामद किया गया है। सभी पर पहले से ही मुकदमा दर्ज है।

Edited By: Vikas Mishra