लखनऊ, जेएनएन। आइआरसीटीसी तेजस एक्सप्रेस के बाद अब उत्तर प्रदेश को अगले महीने ही काॅॅरपोरेट सेक्टर की दूसरी ट्रेन मिलने जा रही है। रेलवे 21 फरवरी से वाराणसी से लखनऊ-उज्जैन होते हुए इंदौर तक इस ट्रेन को चलाएगा। रेलवे बोर्ड ने कॉरपोरेट ट्रेन चलाने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। जल्द ही इसके ठहराव और टाइमिंग की नोटिफिकेशन रेलवे बोर्ड जारी करेगा। देश की काॅॅरपोरेट सेक्टर की पहली ट्रेन लखनऊ से नई दिल्ली के बीच चार अक्टूबर 2019 को शुरू हुई थी।

रेलवे बोर्ड ने 150 निजी क्षेत्र की ट्रेनों को चलाने की तैयारी की है। इस बीच रेलमंत्री पीयूष गोयल ने मध्य प्रदेश के उज्‍जैन को वाराणसी से जोडऩे के लिए सप्ताह में तीन दिन काॅॅरपोरेट सेक्टर की तेजस क्लास ट्रेन को चलाने का आदेश जारी कर दिया है। यह ट्रेन वाराणसी से 21 फरवरी से चलेगी।

इस ट्रेन को भी भारतीय रेलवे खानपान एवं पर्यटन निगम (आइआरसीटीसी) चलाएगा। इस ट्रेन में तेजस की तरह सीटिंग की जगह सोने वाली बर्थ होंगी। वाराणसी से चलने वाली इस ट्रेन को लखनऊ, कानपुर व झांसी और भोपाल के रास्ते उज्‍जैन होकर चलाया जाएगा। रेल कोच फैक्ट्री कपूरथला से इस कारपोरेट ट्रेन के रैक का आवंटन हो गया है।

गोमतीनगर स्टेशन की क्षमता बढ़ी

पूर्वोत्तर रेलवे ने मंगलवार को गोमतीनगर स्टेशन पर नॉन इंटरलॉकिंग का काम पूरा कर लिया। अब स्टेशन पर तीन की जगह पांच लाइनें हो गई हैं। साथ ही वॉशिंग लाइन भी जुड़ गया है। जिस कारण अब ट्रेनों की नियमित जांच गोमतीनगर में भी हो सकेगी। इस काम के पूरा होने के बाद परिवर्तित मार्ग से चल रही ट्रेनें गोमतीनगर होकर चलने लगी हैं। उधर मंगलवार को गोमतीनगर में चार घंटे का ब्लॉक बढ़ाया गया। जिस कारण 15046 ओखा-गोरखपुर एक्सप्रेस को गोमतीनगर के रास्ते न चलाकर अचानक चारबाग होकर चलाया गया।  

Posted By: Anurag Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस