लखनऊ [सौरभ शुक्ला]। बाढ़ और नदी में डूबने से होने वाली मौतों को रोकने के लिए एसडीआरएफ (राज्य आपदा मोचन बल) का आधुनिकीकरण किया जा रहा है। इसके लिए 36 लाइफबॉय उपकरण खरीदने की तैयारी है। रिमोट से संचालित लाइफबॉय से नदी में डूब रहे तीन से चार लोगों को एक साथ बचाया जा सकेगा।

अंग्रेजी के यू (ह्व) आकार के लाइफबॉय में बैटरी और अत्याधुनिक इलेक्ट्रानिक उपकरण लगे हैं। नदी में किसी के डूबने पर बचाव दल इसे पानी में फेंक देगा। इसके बाद लाइफबॉय रिमोट के माध्यम से डूब रहे लोगों के पास पहुंचेगा। जिससे तीन या चार लोग (भार क्षमता ढाई क्विंटल) लटक सकेंगे। बचाव दल लाइफबॉय सहित लोगों को किनारे पर पहुंचाएगा, जिसके बाद उन्हें सुरक्षित निकाला जा सकेगा। एक लाइफबॉय की कीमत करीब पांच लाख 75 हजार रुपये है। यह उपकरण नदी के संकरे रास्ते पर भी पहुंच जाएगा, जहां बोट आदि नहीं जा सकती।

प्रदेश में आपदा के लिए गठित की गई 18 टीमें: प्रदेश में बाढ़ एवं अन्य आपदाओं में राहत एवं बचाव कार्य के लिए 18 टीमें गठित की गई हैं। बीते वर्षों में बाढ़ में 42 और इस साल अब तक दो लोगों की मौत हो चुकी है।

एसडीआरएफ कमांडेंट डॉ स तीश कुमार ने बताया कि सीएम ने एसडीआरएफ को अत्याधुनिक उपकरणों से लैस करने के लिए कहा है। बीते दिनों डीजीपी मुकुल गोयल ने बिजनौर स्थित यूनिट का निरीक्षण किया था, जिसमें लाइफबॉय का डेमो देखा था। डीजीपी की संस्तुति पर लाइफबॉय खरीदने का प्रस्ताव भेजा गया है। जल्द ही हमारे बेड़े में यह शामिल हो जाएगा।

Edited By: Rafiya Naz