लखनऊ, जेएनएन। भारतीय जनता पार्टी की तर्ज पर समाजवादी पार्टी भी प्रदेश में विभिन्न वर्ग का सम्मेलन आयोजित करा रही है। लखनऊ में रविवार को इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में समाजवादी पार्टी के व्यापारी महाकुंभ में पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भाजपा पर जमकर हमला बोला। उनके संबोधन के दौरान ही काफी हंगामा तथा मंच पर अराजकता होने धन्यवाद बोलकर पर वह मंच छोड़कर चले गए।

समाजवादी पार्टी के व्यापारी महाकुंभ में पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने केन्द्र के साथ योगी आदित्यनाथ सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि प्रदेश का व्यापारी, किसान तथा नौजवान संकट में है। इन वर्गों ने कभी भी दुख व तकलीफ नहीं सही। उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर निशाना साधते हुए कहा कि सभी कहते 24 घंटे काम करते हैं, तब प्रदेश में इतनी बेरोजगारी है। व्यापारियों की आमदनी आधी हो गई और महंगाई दोगुनी। इसके साथ ही उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि यही भाजपा का शासन है।

इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि नोटबंदी के समय भरोसा दिलाया गया था कि भ्रष्टाचार खत्म हो जाएगा, लेकिन वह भी बढ़कर दोगुना हो गया है। कोरोना काल में जो उद्योग कारखाने व दुकानें बंद हुई वह दोबारा शुरू नहीं हो सकीं हैं। जिसके कारण प्रदेश में बड़ी संख्या में व्यापारियों को आत्महत्या करनी पड़ी। उन्होंने कहा कि कपड़ों व जूते तक पर जीएसटी लागू है। पेट्रोल व डीजल की वजह से हर चीज के मूल्य आसमान छू रहे हैं। उन्होंने विश्वास दिलाया कि 2022 में बदलाव होगा और व्यापारियों की मांगे पूरी की जाएंगी।

अखिलेश ने कहा कि कोविड-19 समय कोई कारखाना नहीं चल पाया उद्योग बंद हो गए। काम बंद हो गया। यूपी में बड़े पैमाने पर कारोबारियों ने आत्महत्या कर ली। किसान और व्यापारी दो सबसे बड़ी कड़ी हैं, लेकिन भाजपा ने इन दोनों को तोडऩे का काम किया है। कहने को तो भाजपा व्यापारियों की पार्टी है, लेकिन व्यापारी साथियों यह आप की पार्टी नहीं है।

उन्होंने कहा कि योगी आदित्यनाथ जी 24 घंटे काम करते हैं। इसमें हम कोई शक नहीं करते, लेकिन उनके काम से बेरोजगारी बढ़ी है। कोविड के समय पूरी दुनिया में कारोबारियों की मदद की गई, लेकिन केवल यहां कारोबारियों की कोई मदद नहीं हुई। नोटबंदी के समय कहा गया कि भ्रष्टाचार खत्म हो जाएगा। जबकि भ्रष्टाचार तो दोगुना हो गया है।

उन्होंने कहा कि यहां पर व्यापारियों का बहुत बड़ा कार्यक्रम हुआ है। चुनाव के पहले कारोबारियों का यह कार्यक्रम बहुत अच्छा है। कारोबारी बाजार में रहता है। लोगों के बीच में रहता है। ऐसे में जब व्यापारी मन बना लेता है, तो सरकार नहीं बचती। व्यापारियों ने मन बना लिया है, तो बदलाव कोई नहीं रोक सकता। उन्होंने कहा कि यूपी में जो माहौल दिखाई दे रहा है, वह बदलाव का है। लोग इस सरकार को नहीं चाहते। इस सरकार में हर चीज बेची जा रही है। बड़े-बड़े व्यापारी आपके कारोबार पर कब्जा करना चाहते हैं। अमेजन जैसी कंपनी कंडा बेचने का काम करती है। ऑनलाइन कंडा बेचा जाता है। एयरपोर्ट बेचे जा रहे हैं।

इस दौरान समाजवादी व्यापार सभा के प्रदेश अध्यक्ष संजय गर्ग ने कहा कि 2022 के भावी मुख्यमंत्री अखिलेश यादव हैं। उन्होंने कहा कि वही सेना जंग जीतती है, जो अनुशासन में रहती है। हर जिलों से लोग आए हैं। इसमें लखनऊ के 600 लोग समेत पूरे उत्तर प्रदेश के हजारों लोग आए हैं।

अराजकता से अखिलेश यादव नाराज

अखिलेश यादव जिस समय व्यापार सभा के व्यापारी महाकुंभ में लोगों को संबोधित कर रहे थे, उसी दौरान वहां पर हुई अराजकता से नाराज होने के बाद भाषण अधूरा छोड़कर चले गए। वहां पर मंच के सामने कुछ व्यापारी नारेबाजी और शोरगुल कर रहे थे। जब अखिलेश के टोकने पर भी वह लोग नहीं माने तो अखिलेश ने धन्यवाद कहा और मंच से उतर गए।

Edited By: Dharmendra Pandey