लखनऊ, जेएनएन। उत्तर प्रदेश में 11 विधानसभा क्षेत्र में होने वाले उप चुनाव में समाजवादी पार्टी भी अपने तगड़े प्रत्याशी उतार रही है। लोकसभा चुनाव 2019 में बहुजन समाज पार्टी के साथ गठबंधन करने वाली समाजवादी पार्टी विधानसभा उप चुनाव में अकेले उतर रही है। 

समाजवादी पार्टी ने शुक्रवार को अपने दो प्रत्याशियों के नाम की घोषणा की है। लखनऊ कैंट से पार्टी ने मेजर आशीष चतुर्वेदी को उतारा है। कानपुर के गोविंद नगर से सम्राट विकास को पार्टी ने टिकट दिया है। 2017 में लखनऊ कैंट से समाजवादी पार्टी की प्रत्याशी मुलायम सिंह यादव की छोटी बहु अपर्णा यादव थीं। समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने विधानसभा चुनाव 2017 में पार्टी के सिर्फ तीन प्रत्याशियों के पक्ष में चुनाव प्रचार किया था। इनमें लखनऊ कैंट से अपर्णा यादव, इटावा के जसवंतनगर से शिवपाल सिंह यादव तथा जौनपुर के मल्हनी से पारसनाथ यादव के पक्ष में मुलायम सिंह यादव ने कई जनसभा की थी। भाजपा की रीता बहुगुणा जोशी को 95402 और समाजवादी पार्टी की अपर्णा यादव को 61606 वोट मिले थे। 

लखनऊ कैंट से पार्टी ने मेजर आशीष चतुर्वेदी को उतारा है। मुलायम सिंह यादव के छोटे पुत्र प्रतीक यादव की पत्नी अपर्णा को भाजपा की डॉ. रीता बहुगुणा जोशी से हार झेलने पड़ी। प्रयागराज से सांसद डॉ. रीता बहुगुणा जोशी को प्रदेश सरकार में कैबिनेट मंत्री बनाया गया था। उनके सांसद बनने के बाद इस्तीफा देने से खाली सीट लखनऊ कैंट से कांग्रेस तथा बसपा के प्रत्याशियों ने गुरुवार को अपना नामांकन भी कर दिया है जबकि भाजपा ने अभी प्रत्याशी घोषित नहीं किया है। 

कानपुर के गोविंद नगर से सम्राट विकास को टिकट 

गोविंदनगर विधानसभा क्षेत्र में एकमात्र समाजवादी पार्टी पार्षद की जीत में अहम भूमिका निभाने वाले सम्राट विकास पार्टी की पसंद बने। 32 वर्षीय विकास मसवानपुर के निवासी हैं और समाजवादी छात्र सभा में वे प्रदेश उपाध्यक्ष हैंं। सपा के महानगर अध्यक्ष अब्दुल मोईन ने कहा कि पार्टी नेतृत्व ने कैडर को वरीयता देकर कार्यकर्ताओं का सम्मान किया है। सभी मिलकर पार्टी प्रत्याशी को जिताने का प्रयास करेंगे।

 

कानपुर की गोविंद नगर विधानसभा सीट योगी आदित्यनाथ सरकार में कैबिनेट मंत्री सत्यदेव पचौरी के इस्तीफा देने से खाली हुई है। पचौरी लोकसभा चुनाव 2019 में कानपुर से भाजपा के सांसद चुने गए हैं। पचौरी ने 2017 में कांग्रेस के अम्बुज शुक्ला को हराकर गोविंदनगर विधानसभा से जीत दर्ज की थी। बसपा के निर्मल तिवारी तीसरे स्थान पर थे। 2017 में सपा व कांग्रेस का विधानसभा चुनाव में गठबंधन था। इस बार सपा, बसपा तथा कांग्रेस अकेले मैदान में हैं। कांग्रेस ने यहां से करिश्मा ठाकुर को मैदान में उतारा है तो बसपा ने देवी प्रसाद तिवारी को अपना प्रत्याशी घोषित कर दिया है। 

समाजवादी पार्टी ने 12 में से अभी तक पांच सीटों पर ही प्रत्याशी घोषित किया है। पार्टी ने फिरोजाबाद के टूंडला विधानसभा से महराज सिंह धनगर, बलहा (सुरक्षित) सीट से किरण भारती और सहारनपुर के गंगोह विधानसभा क्षेत्र से चौधरी इंद्रसेन को प्रत्याशी बनाया है। कोर्ट केस होने के कारण टूंडला में फिलहाल मतदान नहीं होना है। विधानसभा उप चुनाव में 21 अक्टूबर को वोट डाले जाएंगे। 24 को नतीजे आ जाएंगे। 11 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होने हैं, जिनमें रामपुर, सहारनपुर की गंगोह, फिरोजाबाद की टूंडला, अलीगढ़ की इगलास, लखनऊ कैंट, बाराबंकी की जैदपुर, चित्रकूट की मानिकपुर, बहराइच की बलहा, प्रतापगढ़, हमीरपुर और अंबेडकरनगर की जलालपुर सीट शामिल है। इन 11 विधानसभा सीटों में से रामपुर की सीट सपा और जलालपुर की सीट बसपा के पास थी और बाकी सीटों पर भाजपा का कब्जा था।

Posted By: Dharmendra Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस