लखनऊ। पश्चिम उत्तर प्रदेश की सड़कों पर सावन के आखिरी सोमवार को जलाभिषेक के लिए आज से ही शिव भक्तों का रेला सड़कों पर उमड़ता दिखाई दिया। दिल्ली रोड और मुरादाबाद की कांठ रोड पर हर ओर केसरिया सैलाब दिखाई दिया। शिवभक्त बम बोले की जय जयकार करते कदम बढ़ाए चले जा रहे थे। इसी बीच मुरादाबाद के मझोला क्षेत्र में दूसरे वर्ग के लोगों ने कांवडिय़ों का रास्ता रोक दिया। इससे हंगामा खड़ा हो गया।

दरअसल, हरिद्वार और गढ़ से गंगाजल लेकर शिवभक्त अपने-अपने गंतव्यों की ओर रवाना हो रहे थे। कंधें पर कांवड़ और जुंबा पर बम बम भोले शिवभक्तों के जत्थे जलाभिषेक को आगे बढ़ते नजर आये। कांवडिय़ों के भोजन एवं प्रसाद के लिए हर स्थान पर भंडारे चले और लोगों में शिवभक्तों की सेवा के लिए अपार उत्साह दिखाई दिया। दिल्ली रोड पर तो हर सौ कदम की दूरी पर भंडारे लगे हैं। मुरादाबाद के प्रमुख मंदिरों में शामिल चौरासी घंटा, झारखंडी महादेव आदि मंदिरों में सावन के अंतिम सोमवार की तैयारियां पूरी कर ली गईं। आसपास की धर्मशालाओं में शिवभक्तों को ठहराने के इंतजाम किए गए । हर बेड़े के साथ पुलिस की टुकड़ी भी मौजूद रही।

कांवडियों का रास्ता रोकने पर हंगामा

मुरादाबाद के मझोला थाना क्षेत्र में गागन वाली मेनाठेर में कांवडिय़ों के जत्थे को निकलने पर दूसरे वर्ग के लोगों ने आपत्ति जताई और रास्ता रोक दिया। इससे हंगामा खड़ा हो गया। शिवभक्तों में आक्रोश फैल गया, नारेबाजी शुरू हो गई। देखते ही देखते वहां लोगों की भीड लगनी शुरू हो गई। यह देखकर मौजूद पुलिस कर्मियों के भी हाथ पांव फूल गए। सावन के अंतिम सोमवार को सड़कों पर उमड़े शिवभक्तों को देखते हुए तुरंत भारी संख्या में पुलिस फोर्स मौके पर पहुंचा और लोगों को समझाने का प्रयास किया। काफी मशक्कत के बाद मामला शांत हुआ । मेनाठेर के तमाम लोग सांसद सर्वेश कुमार सिंह के कार्यालय पर पहुंचे और आक्रोश जताते हुए प्रदर्शन किया।

Posted By: Nawal Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप