लखनऊ, जागरण संवाददाता।  सड़क सुरक्षा सप्ताह आगामी छह से 12 दिसंबर के बीच मनाया जाएगा।

कार्यक्रम की रूपरेखा तय कर दी गई है। तिथिवार अलग-अलग आयोजन किए जाएंगे। यह जानकारी उप परिवहन आयुक्त पुष्पसेन सत्यार्थी ने दी। इस दौरान वाहन चालकों को सड़क सुरक्षा के टिप्स दिए जाएंगे।

उन्होंने बताया कि उदघाटन समाराेह छह दिसंबर को होगा। इस तिथि पर हर जिले में परिवहन विभाग के अधिकारियों द्वारा सांसद, विधायक आदि जनप्रतिनिधियों को आयोजन में शामिल करेंगे। इसमें सड़क सुरक्षा से जुड़ी एजेंसियाें के प्रतिनिधि हिस्सा लेंगे। इसमें ट्रक, टेंपो, बस और ऑटो यूनियन के पदाधिकारियों के साथ रोडवेज के चालकों और परिचालकों को शामिल किया जाएगा।

सात दिसंबर को सड़क सुरक्षा जागरूकता पर आधारित कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। इसमें गुड सेमेरिटन को पुरस्कृत किया जाएगा। आठ दिसंबर को सीट बेल्ट, ड्र्रंकन ड्राइविंग के विरुद्ध अभियान चलेगा। नौ दिसंबर को सड़क सुरक्षा से जुड़ी काम करने वाली प्रतिष्ठित संस्था के माध्यम से प्रशिक्षित किया जाएगा। दस दिसंबर को परिवहन निगम के अधिकारियों के साथ मिलकर बस स्टेशनों पर कोविड सुरक्षा से बचाव और सड़क सुरक्षा से जुड़े कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा जिसमें रोडवेज के चालक परिचालकों और यात्रियों को जानकारी दी जाएगी। साथ ही हेल्थ कैंप लगाया जाएगा।

डग्गामार के खिलाफ चलेगा अभियानः इसी तिथि में अपराह्न बाद डग्गामार बसों के खिलाफ अभियान चलाया जाएगा। राजमार्गों पर अवैध रूप से खड़े वाहनों पर कार्रवाई की जाएगी। 11 को प्रदूषण जांच केंद्रों की चेकिंग एवं मानक से अधिक प्रदूषण फैलाने वाले वाहनों के खिलाफ जांच अभियान चला कार्यवाही सुनिश्चित कराई जाएगी। इसी दिन माडीफाइड साइलेंसर वाले वाहन स्वामियों पर नकेल कसते हुए जांच अभियान चलाया जाएगा। अंतिम दिन यानी 12 दिसंबर को ओवरलोडिंग, रेट्रोरेफ्लेक्टिव टेप न लगा होने पर ट्रक-ट्रैक्टर और ट्रालियों के खिलाफ अभियान चलेगा।

इसके अलावा सड़क सुरक्षा विषय पर स्कूली बच्चों को जागरूक करने के उद्देश्य से पेंटिंग और राइटिंग कंपटीशन का स्कूलों में आयोजन किया जाएगा। प्रतियोगिता में अव्वल आने वाले विद्यार्थियों को पुरस्कृत किया जाएगा।

Edited By: Dharmendra Mishra