लखनऊ, जेएनएन।  नई फसलों की आमद के साथ ही पिछले 15 दिन से तेज चल रही दालें सस्ती होना शुरू हो गई हैं। अरहर, उड़द, छोला चना आदि के भाव में बड़ी कमी दर्ज की गई है। जहां अरहर के विभिन्न ब्रांड में नौ रुपये तो उड़द की दाल में बीस से पचीस रुपये की कमी आई है। पैदावार अच्छी होना भी शुभ संकेत है।

आढ़तियों की मानें तो दाल का बाजार सुस्त : माल है लेकिन ग्राहक नदारद। सिटी स्टेशन के फुटकर खाद्यान्न कारोबारी संजय सिंघल एवं जितेंद्र अग्रवाल बताते हैं कि दालों के भाव पिछले 15 दिन में काफी नीचे आ गए हैं। चाहे वह अरहर हो या फिर उड़द और चना। सभी में गिरावट है। आने वाले दिनों में भी माल आने से फुटकर बाजार भाव के मामले में सुस्त रहेगा।

लखनऊ दाल एंड राइज मिलर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष भारत भूषण गुप्ता ने बताया कि राज्यों में पैदावार अच्छी हुई है। यह शुभ संकेत है। आयात भी बढ़िया है। महाराष्ट्र से दलहन की फसलों की आमद शुरू होने से बाजारों में माल पर्याप्त मात्र में पहुंच रहा है। अगले माह से अन्य राज्यों का भी माल आने लगेगा। जाहिर सी बात है कि दालों की कीमतें नियंत्रित होती चली जाएंगी। अरहर में नौ और बीस रुपये किलो की उड़द दाल की कीमतों में कमी है।लखनऊ व्यापार मंडल के अध्यक्ष राजेंद्र अग्रवाल ने बताया कि माल प्रचुर मात्र में बाजारों में है। नई फसलें निकलने वाली हैं।

Posted By: Anurag Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस