रायबरेली, जेएनएन। कांग्रेस महासचिव प्रियंका वाड्रा अपनी मां सोनिया गांधी के गढ़ रायबरेली में पार्टी को मजबूत करने में लगी हैं। रायबरेली की सदर विधायक व अखिलेश सिंह के बेटी अदिति सिंह का इन दिनों कांग्रेस से मोहभंग हो रहा है और पार्टी लाइन से हटकर वह भाजपा के करीब दिख रही हैं। ऐसे में प्रियंका ने अदिति की भरपाई के लिए उनके घर में सेंध लगा दी है। अखिलेश सिंह के भतीजे और अदिति सिंह के चचेरे भाई मनीष सिंह बुधवार को कांग्रेस का दामन थामेंगे।

मनीष सिंह ने वर्ष 2017 में बसपा से रायबरेली के हरचंद्रपुर विधानसभा सीट से चुनाव लड़े थे, लेकिन कांग्रेस प्रत्याशी राकेश सिंह से पराजित हो गए थे। रायबरेली के बदलते सियासी माहौल को देखते हुए मनीष सिंह बसपा छोड़कर कांग्रेस में वापसी कर रहे हैं। मनीष सिंह को प्रियंका रायबरेली में पार्टी की सदस्यता दिलाएंगी।

मनीष सिंह का कहना है कि वह कांग्रेस व प्रियंका वाड्रा की राजनीति से प्रभावित होकर उनका साथ देना चाहते हैं। अदिति सिंह की भाजपा से बढ़ रही नजदीक के सवाल पर उन्होंने कहा कि परिवार अपनी जगह और राजनीति अपनी जगह है। हमें कांग्रेस की विचारधारा अच्छी लग रही है तो हम कांग्रेस में शामिल हो रहे हैं। उन्हें भाजपा की विचारधारा पसंद आ रही है तो वहां जा रही हैं। उन्होंने कहा कि वह कांग्रेस में एक कार्यकर्ता के तौर पर शामिल हो रहे हैं। हालांकि उन्होंने कहा कि वह पहले भी कांग्रेस में रह चुके हैं और इस तरह से वह घर वापसी कर रहे हैं।

बता दें कि लोकसभा चुनाव के पहले रायबरेली में एक के बाद एक कांग्रेसी नेता पार्टी छोड़कर भाजपा का दामन थाम रहे हैं। रायबरेली से एमएलसी दिनेश प्रताप सिंह कांग्रेस छोड़कर भाडपा में शामिल हो गए थे और लोकसभा चुनाव में सोनिया गांधी के खिलाफ मैदान में उतरे थे। दिनेश प्रताप सिंह के भाई राकेश सिंह जो हरचंद्रपुर विधानसभा सीट से कांग्रेस के विधायक हैं, उन्होंने पार्टी से किनारा कर लिया था। इसके अलावा जिला पंचायत अध्यक्ष अवधेश सिंह भी कांग्रेस छोड़ दी थी।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस