रायबरेली, जेएनएन। दुष्कर्म का केस वापस लेने से इन्कार पर केरोसिन डालकर जलाई गई उन्नाव की बिटिया की शुक्रवार रात मौत के बाद आम लोगों में गम और गुस्सा दोनों है। वहीं, कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा शनिवार को पीड़िता के पैतृक गांव उन्‍नाव पहुंची। लौटते वक्‍त महासचिव प्रियंका गांधी रायबरेली के खीरों क्षेत्र स्थित गांव खानपुर खुशटी पहुंची। यहां वह किसानों के दर्द से रुबरु हुईं। कांग्रेस की महासचिव को किसानों ने आदर्श जलाशय में बंद किये गए एक सैकड़ा बेसहारा पशुओं को दिखाया। आश्चर्य चकित हुईं प्रियंका गांधी ने मौके पर मौजूद अधिकारियों से पूछा कि कब तक इन पशुओं को गोशाला में पहुंचाया जाएगा। 

 

प्रियंका गांधी ने निभाया अपना वादा 

बता दें, लखनऊ से दुष्कर्म पीड़िता के पैतृक गांव उन्‍नाव के लिए रवाना होने से पहले कांग्रेस की महासचिव का काफिला कुछ पल के लिए रायबरेली के खीरों क्षेत्र में रुका था। तभी खुश्टी की पुलिया पर क्षेत्र के कई गांवों के बड़ी संख्या में किसान जमा हो गए। प्रियंका गांधी वाड्रा को अपने समक्ष देख किसानों ने बेसहारा पशुओं से फसलों की बर्बादी की व्यथा बताई।

किसानों ने प्रियंका गांधी वाड्रा से उन्हें देखने व इनको गोशालाओं में भेजवाने की मांग की। इसपर प्रियंका गांधी वाड्रा ने किसानों को दिए दुष्कर्म पीड़िता के परिजनों से मुलाकात कर वापस लौटने के वादे को निभाया और वह बेसहारा पशुओं को देखने पहुंचीं। 

 

Posted By: Divyansh Rastogi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस