लखनऊ, जेएनएन। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अस्पतालों और चिकित्सा संस्थानों को देश के स्वास्थ्य सेनानी की संज्ञा देते हुए उनसे देश को स्वस्थ रखने की महती जिम्मेदारी को समर्पित भाव से निभाने का आह्वान किया है। वह रविवार को राजधानी लखनऊ में कानपुर रोड स्थित एलडीए कॉलोनी में 330 बेड के सुपर स्पेशियेलिटी हॉस्पिटल अपोलो मेडिक्स के उद्घाटन समारोह को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे।

पुलवामा के शहीदों को नमन और उनके परिवारीजन के प्रति संवेदनाएं व्यक्त करने के साथ उन्होंने कहा, लखनऊ में कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त चिकित्सा संस्थान हैं। अब अपोलो मेडिक्स हॉस्पिटल के शुरू होने से लोगों को कम खर्च पर अति आधुनिक चिकित्सकीय सुविधाएं मिलने लगेंगी। राष्ट्रपति ने कहा कि उप्र ने बुनियादी सुविधाओं के क्षेत्र में उल्लेखनीय प्रगति की है। केंद्र और राज्य सरकार दोनों ही स्वास्थ्य रक्षा सेवाओं को उत्तम और मजबूत बनाने की दिशा में काम कर रही हैं। प्रदेश में इसके सकारात्मक नतीजे मिल रहे हैं। मार्च तक प्रदेश के 30 सरकारी अस्पतालों में सीटी स्कैन की सुविधा निश्शुल्क उपलब्ध होगी। सरकार एक तरफ एम्स जैसे आधुनिक चिकित्सा संस्थान बना रही है तो दूसरी ओर योग जैसी आरोग्य पद्धति को भी बढ़ावा दिया जा रहा है। मेडिकल टूरिज्म के माध्यम से देश को विदेशी मुद्रा के साथ सद्भावना भी मिल रही है।

राष्ट्रपति ने कहा कि देश के 63 प्रतिशत लोगों को अपने और अपने परिवारीजन के स्वास्थ्य का खर्च खुद वहन करना पड़ता है। इसलिए केंद्र सरकार ने आयुष्मान भारत जैसी महत्वाकांक्षी योजना शुरू की जिसके तहत अब तक देश में 12.28 लाख लोगों का इलाज किया जा चुका है। स्वच्छ भारत मिशन का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि हम जहां कहीं भी रहें, स्वच्छता की शुरुआत वहीं से करें।

समारोह में उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा, परिवार कल्याण मंत्री डॉ. रीता बहुगुणा जोशी, कानून मंत्री ब्रजेश पाठक, परिवार कल्याण राज्य मंत्री स्वाती सिंह, अपोलो हॉस्पिटल समूह के चेयरमैन डॉ. प्रताप सी. रेड्डी, प्रबंध निदेशक सुनीता रेड्डी, अपोलोमेडिक्स के सह अध्यक्ष डॉ. सुशील गट्टानी भी मौजूद थे।

चिकित्सा पर खर्च बढ़ाएगी केंद्र सरकार: राजनाथकेंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने अपने संसदीय क्षेत्र में अपोलो मेडिक्स जैसे सुपर स्पेशियेलिटी अस्पताल के चालू होने पर खुशी जतायी। कहा कि 130 करोड़ की आबादी वाले देश में सबके स्वास्थ्य की चिंता और उससे जुड़ी जरूरतों को पूरी करना बहुत बड़ी चुनौती है। इस चुनौती से निपटने में निजी क्षेत्र ने महत्वपूर्ण भूमिका निभायी है। उन्होंने बताया कि अभी देश के सकल घरेलू उत्पाद का 1.16 प्रतिशत ही चिकित्सा पर खर्च होता है जो कि ब्रिक्स देशों में हेल्थ केयर पर होने वाले खर्च में न्यूनतम है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संकल्प है कि चिकित्सा पर होने वाले खर्च को बढ़ाकर जीडीपी के 2.5 प्रतिशत तक पहुंचाया जाएगा। उन्होंने कहा कि आम आदमी अपने कुल खर्च का 59 प्रतिशत चिकित्सा और स्वास्थ्य रक्षा पर खर्च करता है। इसी दुश्वारी को देखते हुए आयुष्मान भारत योजना शुरू की गई। उन्होंने बताया कि भारत मेडिकल टूरिज्म का आकर्षक गंतव्य बन गया है। मेडिकल टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए गृह मंत्रलय ने कई सुविधाएं दी हैं। इसके लिए 161 देशों को ई-वीजा की सुविधा मुहैया करायी गई है। मेडिकल वीजा के लिए टिपल एंट्री को मंजूरी दी गई है। मेडिकल वीजा की अवधि को बढ़ाकर 60 दिन कर दिया गया है। लोगों से अपील की कि स्वच्छ भारत अभियान के माध्यम से यदि स्वच्छताग्रह अभियान छेड़ा जाए तो देश से बीमारियां भाग जाएंगी।

गरीबों को आयुष्मान भारत योजना का लाभ दिलाएं: नाईक
उद्घाटन समारोह में राज्यपाल राम नाईक ने कहा कि किंग जार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय, एसजीपीजीआइ और लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान जैसे चिकित्सा संस्थानों से लैस लखनऊ में अपोलो मेडिक्स जैसे अस्पताल का खुलना सुखद समाचार है। लखनऊ मेडिकल हब बन रहा है। यहां के बीमार लोगों को इलाज के लिए अब मुंबई, दिल्ली और चेन्नई जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। अपेक्षा की कि अपोलो अस्पताल लखनऊ में चिकित्सा के उच्च आदर्श स्थापित करेगा। इच्छा जतायी कि अपोलो अस्पताल आयुष्मान योजना से जुड़कर गरीबों को इसका लाभ दिलाए।

अपोलो हॉस्पिटल देश भर में खोलेगा 550 टेली मेडिसिन सेंटर 
अपोलो हॉस्पिटल देश भर में 550 टेली मेडिसिन सेंटर खोलेगा और इससे 60 हजार गांवों को जोड़ेगा। इसके माध्यम से इन गांवों में रहने वाले लोग विशेषज्ञ डॉक्टरों से अपना बेहतर इलाज करवा सकेंगे। यह बातें अपोलो हॉस्पिटल ग्रुप के चेयरमैन डॉ. प्रताप सी रेड्डी ने कहीं। हॉस्पिटल के उद्घाटन अवसर पर उन्होंने कहा कि दूसरे चरण में भी टेली मेडिसिन सेंटर खोलकर 60 हजार गांवों को लाभान्वित किया जाएगा।

अपोलो हॉस्पिटल की मैनेजिंग डायरेक्टर और अपोलो मेडिक्स सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल की चेयरपर्सन सुनीता रेड्डी ने कहा कि यूपी आबादी के लिहाज से विश्व में चार देशों के बाद आता है। ऐसे में लखनऊ में खुला अपोलो मेडिक्स सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल मरीजों को विश्व स्तरीय सुविधाएं देगा। अभी हम दक्षिण भारत में ज्यादा सक्रिय थे लेकिन अब उत्तर भारत में तेजी से अपने ग्रुप के हॉस्पिटल खोल रहे हैं। मध्य प्रदेश बिहार, छत्तीसगढ़ आदि राज्यों पर भी हमारा फोकस है। मंच पर अपोलो मेडिक्स सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल के फाउंडर व को-चेयरमैन डॉ. सुशील गट्टानी भी मौजूद रहे।


330 बेड के हॉस्पिटल में मिलेगी विश्व स्तरीय इलाज की सुविधा
कानपुर रोड स्थित एलडीए कॉलोनी में खुले 300 बेड के अपोलो मेडिक्स सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल के संस्थापक व को-चेयरमैन डॉ. सुशील गट्टानी ने बताया कि 330 बेड के इस हॉस्पिटल में 110 बेड का आइसीयू होगा। इसके अलावा चौबीस घंटे डायलिसिस की सुविधा होगी। ट्रू बीम लीनेक फॉर एडवांस कैंसर ट्रीटमेंट मशीन के माध्यम से कैंसर रोगियों की सिंकाई आसानी से होगी। इसके अलावा पेट स्कैन, 384 स्लाइस सीटी स्कैन, बीप्लेन कैथ लैब सहित तमाम विश्व स्तरीय चिकित्सा सुविधाएं मिलेंगी।

 

Posted By: Anurag Gupta

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप