बाराबंकी, जेएनएन। उत्‍तर प्रदेश के बाराबंकी में एक गर्भवती की मौत के दस दिन बाद उसके शव को कब्र से निकाला गया। मजिस्ट्रेट की उपस्थिति में शव को बाहर निकाल पोस्‍टमॉर्टम के लिए भेजा गया। मृतका के मायके पक्ष ने ससुरालीजन पर दहेज के लिए हत्या करने का आरोप लगाया है। मृतका के पिता की तहरीर पर पुलिस ने मजिस्ट्रेट की अनुमति से शव को खोदवाकर बाहर निकाला और वीडियोग्राफी भी कराई गई है।

ये है पूरा मामला 

दरअसल, लखनऊ के महानगर थानाक्षेत्र के अकबर नगर निवासी असलम ने अपनी पुत्री रुखसार का निकाह नवंबर 2018 में कोतवाली नगर के मोहल्ला पीरबटावन निवासी सलमान से किया था। मृतका के पिता असलम का आरोप है कि निकाह के बाद ही उसकी पुत्री को दहेज के लिए प्रताडि़त किया जाने लगा। 27 नवंबर 2019 को बेटी के ससुराल के पड़ोसी ने उन्हें फोन कर बेटी की मौत होने की सूचना दी। ससुराल वाले जब बेटी के शव को दफना रहे थे तो वह दो माह की गर्भवती थी।

ससुरालीजन ने बताया कि मृतका को टीबी थी और खून की उलटी हो रही थी। इसपर मृतका के पिता ने मृतका के पति, जेठ, ननद व बहनोई के खिलाफ तहरीर दी है। प्रभारी निरीक्षक कोतवाली नगर धर्मेंद्र सिंह रघुवंशी ने बताया कि मजिस्ट्रेट से अनुमति लेकर कमरियाबाग स्थित कब्रिस्तान में कब्र खोदकर रविवार को शव निकलवाया गया है। पीएम रिपोर्ट के आधार पर अग्रिम कार्रवाई की जाएगी। 

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस