लखनऊ, जेएनएन। पशुधन विभाग में टेंडर दिलाने के नाम पर करोड़ों के फर्जीवाड़े के मामले में एसीपी गोमतीनगर श्वेता श्रीवास्तव को कोर्ट ने निलंबित समीक्षा अधिकारी उमेश मिश्रा की पुलिस कस्टडी रिमांड दी है। न्यायालय ने गुरुवार रात आठ बजे से शुक्रवार रात आठ बजे तक की रिमांड मंजूर की है। पुलिस ने उमेश से पूछताछ शुरू कर दी है।

एसीपी गोमतीनगर श्वेता श्रीवास्तव के मुताबिक आरोपित उमेश मिश्रा से टेंडर दिलाने के नाम पर की गई ठगी के संबंध में पूछताछ की जा रही है। आरोपित से जेल में भी पूछताछ की गई थी जिस पर उसने कई सवालों के जवाब नहीं दिए थे और गुमराह किया था। छानबीन में सामने आया था कि उमेश मिश्रा ने ठगी के आरोपितों से अपनी बेटी के खाते में रुपये मंगाए थे। गौरतलब है कि 13 जून, 2020 को इंदौर के व्यापारी मंजीत सिंह भाटिया उर्फ रिंकू ने हजरतंगज कोतवाली में एफआइआर दर्ज कराई थी।

इस मामले में उमेश कुमार मिश्रा, अमित मिश्रा व आशीष राय समेत 13 आरोपितों को नामजद किया गया था। सभी पर कूटरचित दस्तावेजों व छद्म नाम से गेहूं, आटा, शक्कर व दाल आदि की सप्लाई का ठेका दिलवाने के नाम पर कुल नौ करोड़ 72 लाख 12 हजार रुपये की ठगी करने का आरोप है। उमेश मिश्रा पर 25 हजार का इनाम भी घोषित किया गया था। इसके बाद आरोपित ने न्यायालय में आत्मसमर्पण किया था।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप