हरदोई, जेएनएन। मल्लावां कस्बे के मुहल्ला गंगारामपुर में हत्या के बाद फेंके गए युवती के शव के मामले का पुलिस ने राजफााश कर लिया है। युवती की हत्या ऑनर किलिंग थी, उसके सगे मामा ने एक साथी के साथ म मिलकर हत्या कर शव को झाड़ियों में फेंककर उसे आत्महत्या की शक्ल दे दी थी। 

यह है मामला 

मल्लावां में गंगारामपुर विद्यालय के पीछे झाडिय़ों में उन्नाव जिले के थाना बेहटा के काशीरामखेड़ा मजरा कैथोली निवासी ङ्क्षरकी पुत्री रमाकांत का शव मिला था। ङ्क्षरकी   माधौगंज थाना क्षेत्र के सहेलमापुर ननिहाल आई थी। हालांकि शुरू में रिंकी के जान देने की बात बताई जाती रही, लेकिन पोस्टमॉर्टम में हत्या की पुष्टि होने के बाद पुलिस ने राजफाश किया। एसपी आलोक प्रियदर्शी ने पत्रकार वार्ता में बताया कि ङ्क्षरकी का गांव के ही रामेश्वर से प्रेम प्रसंग चल रहा था। रिंकी ननिहाल आई थी, शुक्रवार को रामेश्वर भी आ गया। शुक्रवार की रात वह रिंकी से मिलने गया, उसी बीच उसके मामा जसबंत ने देख लिया। रामेश्वर तो मौके से भाग गया था, लेकिन उसकी पर्स और मोबाइल गिर गया।

पुलिस हिरासत में जसंबत ने बताया कि उसने रिंकी को समझाया तो वह विवाद करने लगी थी। उसी पर उसने उसका गला दबा दिया। घर पर ही हत्या के बाद शव को परिवार के ही कमलेश के साथ मिलकर शव को गंगारामपुर में विद्यालय के पीछे छिपा दिया। एसपी ने बताया कि जसबंत की निशानदेही पर मृतका की एक जोड़ी पायल और मोबाइल बरामद किया गया है। 

हत्या के बाद पेड़ से लटकाया गया था शव

रिंकी की हत्या कर उसे आत्महत्या के रूप में बदलने का प्रयास किया गया। उसके फ्रॉक की डोरी से ही उसका गला बांधकर पेड़ से लटका दिया गया। पुलिस भी पहले यही बताती रही, लेकिन पोस्टमॉर्टम ने पोल खोल दी। जिसके बाद पूरी हकीकत सामने आ गई।

गोद में सात किलोमीटर लेकर गए शव

रिंकी की हत्या तो घर पर ही कर दी गई थी, फिर जसबंत और कमलेश उसे गोद में लेकर गए। उन्हें पता था कि गंगारामपुर विद्यालय के पीछे झाडिय़ां हैं, तो वहीं पर शव को पेड़ से लटका देंगे, जिससे लोग आत्म हत्या समझेंगे। सात किलोमीटर तक गोद में लेकर शव गए और पेड़ से लटका भी दिया था, लेकिन डोरी कमजोर होने से वह टूट गई और शनिवार की सुबह शव जमीन पर पड़ा मिला।

 

Posted By: Anurag Gupta

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप