लखनऊ(जेएनएन)। सरकार ने पेट्रोल और डीजल की कीमतों में लग रही आग को ठंडा करने के लिए जो राहत दी थी वह आठ दिन में ही घटकर आधी रह गई है। कीमतों में तब से अब तक करीब ढाई रुपये की बढ़ोतरी हो चुकी है। चार अक्टूबर को प्रदेश सरकार ने पेट्रोल और डीजल के चढ़ते दामों पर लगातार बढ़ रही पब्लिक की नाराजगी को देखते हुए दोनों पर से पांच-पांच रुपये हटाने की घोषणा की थी।

उस वक्त पेट्रोल के दाम 83.30 और डीजल के दाम 75.58 रूपये थे। सरकार की घोषणा का तत्काल असर दिखा और अगले दिन ही रेट 79.12 और डीजल के दाम 71.28 पैसे हो गए थे लेकिन, एक बार फिर तेल की दरें बढ़ती जा रही हैं। आइओसी के अधिकारी एके अवस्थी का कहना है कि चूंकि तेल कंपनियां अंतरराष्ट्रीय बाजार के आधार पर अब नियमित तेल की दरें निर्धारित करती हैं, इसलिए किसी का नियंत्रण नहीं है।

 उतार-चढा़व 

तारीख - पेट्रोल - डीजल

छह अक्टूबर - 79.26 - 71.56

सात अक्टूबर - 79.46 - 71.85

आठ अक्टूबर - 79.69 - 72.13

नौ अक्टूबर - 79.69 - 72.13

दस अक्टूबर - 79.69 - 72.3611

अक्टूबर - 79.90 - 72.90

12 अक्टूबर - 80.08 - 73.18

 

Posted By: Anurag Gupta