बाराबंकी [जगदीप शुक्ल]। बीते दिनों जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्वयं मास्क की जगह गमछा बांधकर टीवी पर आए और फिर लोगों से अपील की कि मास्क की जगह गमछे का उपयोग भी कोरोना से बचा सकता है, तो पूरे देश में इस अपील का असर हुआ। उत्तर प्रदेश के बाराबंकी का गमछा (स्टॉल) राज्य सरकार की आजीविका योजना 'वन डिस्ट्रिक्ट-वन प्रोडक्ट' में चयनित है, लेकिन मोदी की अपील के बाद नजारा बदल गया है।

हथकरघा कारोबार से जुड़े लोगों ने हू-ब-हू उसी डिजाइन का गमछा तैयार करना शुरू किया, जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बांधा था। इसे मोदी स्टॉल या मोदी गमछा नाम दिया। आते ही गमछे की मांग बढ़ने लगी। हालत यह है कि अब यहां मोदी गमछे का भरपूर उत्पादन हो रहा है। अब जिले में मास्क की न सिर्फ किल्लत खत्म हो गई है, बल्कि मोदी गमछे का ही बहुतायत उपयोग हो रहा है। बाराबंकी के जिलाधिकारी डॉ. आदर्श सिंह ने बताया कि गमछे का निश्शुल्क वितरण शुरू कराकर वन डिस्ट्रिक्ट-वन प्रोडक्ट में चयनित उत्पाद को प्रोत्साहित करने का काम किया गया, जो सफल रहा।

बाराबंकी जिले में मोदी गमछे का उत्पादन शुरू करने वाले शहाबपुर के उबेद अंसारी का कहना है कि विस्कास कपड़े से इसे तैयार किया जाता है। जिला प्रशासन ने तो वितरण कराया ही, लॉकडाउन के बावजूद अब तक मोदी गमछे की भरपूर बिक्री हो चुकी है और मांग कायम है। अंसारी ने उम्मीद जताई कि लॉकडाउन के बाद इसकी बिक्री में निश्चित ही तेजी आएगी। अंसारी के अलावा जैदपुर के कारोबारियों ने भी मोदी गमछे का उत्पादन शुरू किया है। जिले में पावरलूम की तीन हजार यूनिट हैं, जिनमें करीब 50 हजार बुनकरों को रोजगार मिल रहा है। एक दिन में करीब पांच लाख गमछे (प्रचलित) तैयार होते हैं, जिनकी आपूर्ति बरेली, दिल्ली, मुंबई सहित देश के विभिन्न हिस्सों और अफगानिस्तान, तुर्की व खाड़ी देशों तक है। फिलहाल मोदी गमछा जिले के इस उद्योग में जान फूंक रहा है। 

मोदी गमछे की विशेषताएं

  • साइज : 28 इंच चौड़ा और 72 इंच लंबा।
  • कीमत : 70-80 रुपये प्रति नग।
  • क्षमता : जिले में पावरलूम की तीन हजार यूनिट।
  • रोजगार : करीब 50 हजार को।
  • उत्पादन : एक दिन में करीब पांच लाख गमछे तैयार होते हैं। अब मोदी गमछा हो रहा तैयार।
  • आपूर्ति : उत्पादों की आपूर्ति बरेली, दिल्ली, मुंबई सहित देश के विभिन्न हिस्सों और अफगानिस्तान, तुर्की, खाड़ी देशों तक।

 

Posted By: Umesh Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस