लखनऊ, जागरण संवाददाता। सरोजनीनगर के पिपरसंड हुल्ली खेड़ा में आम के बाग में बुधवार सुबह एक वृद्ध का शव फंदे पर लटका मिला। ग्रामीणों ने शव की शिनाख्त की। मृतक की बेटी गांव के कुछ लोगों पर हत्या का आरोप लगाते हुए कार्रवाई की मांग की है। वहीं, पुलिस ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई की बात कही है। हुल्लीखेड़ा गांव के बाहर बुधवार सुबह आम के बाग में वृद्ध का शव लटका होने के सूचना से मौके पर ग्रामीणों की भीड़ जुट गई। ग्रामीणों ने शव की शिनाख्त 60 वर्षीय खेमई के रूप में की।

सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस ने शव को फंदे से उतारा और पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। खेमई की बेटी ने बताया कि पिता के शरीर पर चोटों के निशान थे। उन्हें गांव के वीरपाल, सौरभ, गंगाराम, संतराम पिता को बीती रात अपने साथ लेकर गए थे। इसके बाद उनकी हत्या कर दी। आत्महत्या का रूप देने के लिए शव को उक्त लोगों ने फंदे से लटका दिया। उक्त लोग कई माह से प्रताड़ित करने के साथ ही धमकी दे रहे थे। कई बार पुलिस से शिकायत की लेकिन सुनवाई नहीं हुई। वहीं, इंस्पेक्टर महेंद्र कुमार सिंह ने बताया कि तहरीर के आधार पर मामले की जांच की जा रही है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई की जाएगी। जांच के आधार पर जो भी बिंदु सामने आएंगे उसके आधार पर कार्रवाई की जाएगी। वहीं आरोपितों की तलाश की जा रही है। 

आरोपितों पर छेड़छाड़ और 10 लाख रुपये रंगदारी मांगने का आरोपः खेमई की बेटी का आरोप है कि गांव के वीरपाल, संतराम समेत अन्य आरोपित बीते 25 अगस्त को घर आए थे। उन्होंने छेड़छाड़ की थी। विरोध पर पीटा था। वहीं, मंगलवार की रात वीरपाल और उसके साथी फिर पहुंचे। उन्होंने भाई दीपक के खिलाफ दर्ज केस में समझौता कराने के लिए कहा। इसके साथ ही समझौते के लिए 10 लाख रुपये की मांग की। इसके बाद पिता को अपने साथ लेकर चले गए। वीरपाल ने अपने साथियों के साथ मिलकर पिता की हत्या कर दी। 

Edited By: Vikas Mishra