लखनऊ, जेएनएन। शारीरिक व्यायाम करने में असहाय और आसान तरीके से मोटापे से छुटकारा पाने की चाह रखने वालों के एक छोटा सा गुब्बारा बड़ा मददगार साबित होगा। पीजीआइ में इस तरह के मरीजों का उपचार महज एक गुब्बारे की मदद से किया जाएगा। इससे एक वर्ष में 20 किलो तक वजन घटा सकेंगे।

पिछले डेढ़ वर्ष में चार मरीजों के सफल उपचार के बाद एंडोस्कोपी गैस्टिक बलून प्लेसमेंट को पीजीआइ में बढ़ावा देने की तैयारी चल रही है। इस प्रक्रिया से मरीज की भूख को कंट्रोल किया जा सकता है। इससे एक वर्ष में मरीज का 20 किलो तक वजन कम हो सकता है। गैस्ट्रोलॉजी प्रो. प्रवीण राय ने बताया कि मोटापे के शिकार कई मरीज शारीरिक अक्षमता के चलते व्यायाम नहीं कर पाते हैं। ऐसे में बलून प्लेसमेंट उनके लिए कारगर उपचार है। इसमें एंडोस्कोपी (मुंह के रास्ते) के जरिये मरीज के पेट में एक गुब्बारा प्लेस किया जाता है। इस गुब्बारे की वजह से उसका पेट कम खाने में ही भर जाता है। इससे बार-बार खाने के बजाय संतुलित आहार ही व्यक्ति लेता है। पूर्व में हुए सफल उपचार के बाद अब तरीके को पीजीआइ में व्यापक स्तर पर शुरू किया जाएगा।

नहीं होगा कोई साइड इफेक्ट

प्रो. प्रवीण राय के मुताबिक, अब तक हुए सफल उपचार में कोई साइड इफेक्ट सामने नहीं आए हैं। इस उपचार में गुब्बारे को पेट में एक साल तक आसानी से रखा जा सकता है।

शुरुआत में मरीज को पेट दर्द और उल्टी की मामूली से शिकायत हो सकती है, जो कि सामान्य है।

एक लाख रुपये है कीमत

इस छोटे से गुब्बारे की कीमत करीब एक लाख रुपये है। वहीं अस्पताल के खर्च के साथ करीब सवा लाख रुपये में यह उपचार हो सकेगा। वहीं उपचार में चंद घंटे लगेंगे, लेकिन मरीज को चौबीस घंटे से तीन दिन तक डॉक्टर की निगरानी में रखा जाएगा।

Posted By: Divyansh Rastogi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप