लखनऊ, जागरण संवाददाता। कक्षा 6 से आठ तक के बच्चों का इंतजार समाप्त हुआ। सोमवार से यानी 23 अगस्त से स्कूल इनके लिए खुल रहे हैं। इनके स्वागत के लिए स्कूल तैयार हैं। करीब डेढ़ साल बाद स्कूल खुलने पर बच्चों में भी खासा उत्साह है। इसी के साथ कोरोना काल में इन बच्चों की भी ऑफलाइन पढ़ाई का श्री गणेश होगा। अधिकांश स्कूल सुबह 8 बजे ही खुलेंगे। स्कूल खुलने के दौरान सरकार द्वारा जारी कोरोना गाइडलाइंस का पालन गंभीरता से किया जाएगा। स्कूल गेट पर बच्चों का टेंपरेचर चेक करके ही प्रवेश दिया जाएगा। इसके अलावा हर बच्चे को अनिवार्य रूप से सैनिटाइजर उपलब्ध कराया जाएगा। बिना मास्क के किसी भी बच्चे, स्टाफ व शिक्षक का प्रवेश स्कूल के अंदर प्रतिबंधित रहेगा।

सीएमएस कानपुर रोड की प्रिंसिपल विनीता कामरान ने बताया कि स्कूल में कोविड 19 को लेकर जारी एसओपी का अनिवार्य रूप से पालन कराया जा रहा है। कक्षा 6 से 8 तक के बच्चों के लिए भी पूरी एहतियात बरती जाएगी। कक्षाएं सुबह 8बजे से 12 बजे तक संचालित की जाएंगी।

अनएडेड प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन के अध्यक्ष अनिल अग्रवाल का कहना है कि सभी स्कूलों ने कोरोना से तैयारियों को लेकर अभिभावकों को भी आश्वस्त किया गया है।

स्कूलों की प्लानिंग:

एक क्लास में नहीं बैठेंगे 20 से अधिक बच्चे: पायनियर मांटेसरी स्कूल की प्रिंसिपल शर्मिला सिंह ने बताया कि कोरोना संक्रमण को देखते हुए कक्षाओं में शारीरिक दूरी के मानक का पालन कराया जा रहा है। अगर किसी क्लास में 40 विद्यार्थी हैं तो उसे 20-20 के दो सेक्शन में बांटा गया है। दोनों सेक्शन के छात्रों को अगल-अगल कमरे में बैठाया जाएगा है। यानी अगर किसी क्लास में चार सेक्शन हैं तो उस क्लास में आठ सेक्शन बनाएं गए हैं, जिससे एक क्लास में 20 बच्चे ही बैठें। उन्होंने बताया कि अगर फिर भी छात्र संख्या अधिक रहती है तो उन बच्चों की आनलाइन क्लास भी संचालित कराई जा सकती हैं।

डीआईओएस मुकेश कुमार सिंह ने बतायाकि स्कूलों को शासन द्वारा जारी कोविड गाइडलाइंस का गंभीरता से पालन करना होगा। किसी स्तर पर लापरवाही सामने नहीं आनी चाहिए।

Edited By: Rafiya Naz