लखनऊ, जेएनएन। मेट्रो रूट से सवारी वाहन हटाने की तैयारियां शुरू हो गई हैं। इसके तहत 36 रूट पर जहां ई-रिक्शों का संचालन रुक जाएगा, वहीं 27 निजी नगर बसों को भी रूट पर चलने की अनुमति नहीं होगी। यही नहीं, नगरीय परिवहन से जुड़ी करीब 75 सिटी बसों को भी मेट्रो रूट से हटाया जा सकता है। इन सवारी वाहनों को नए रूट का विकल्प दिया जाएगा। नए मार्गो के लिए इसी माह सर्वे किया जाएगा। इस संबंध में संभागीय परिवहन अधिकारी ने जिलाधिकारी को प्रस्ताव सौंप दिया है।

दस मार्गो पर पहले ही लग चुकी रोक
योजना के तहत मेट्रो के समानांतर चल रहे ई-रिक्शा को 36 मार्गो पर रोक दिया जाएगा। दस मार्गो पर संचालन पहले ही रोका जा चुका है। शेष 26 रूट पर इन्हें प्रतिबंधित करने की योजना है। इन्हें फीडर सर्विस के रूप में चलाया जाएगा या फिर नए मार्ग पर चलने की अनुमति दी जाएगी।

नगर बसों को भी रोका जाएगा
27 निजी नगर बसों के अलावा नगरीय परिवहन से जवाहरलाल नेहरू अरबन मिशन की संचालित 75 सेवाएं भी रुक सकती हैं।इन रूट पर ई-रिक्शा नहीं बाराबिरवा से चारबाग व तेलीबाग, बंगला बाजार चौराहे से कुंवर जगदीश चौराहा करियप्पा होते हुए बंदरियाबाग चौराहा। सिकंदरबाग से गोल मार्केट चौराहा, हजरतगंज से केकेसी तिराहा रायल होटल, बर्लिग्टन, राणा प्रताप मार्ग। पॉलीटेक्निक चौराहा से खुर्रमनगर, टेढ़ी पुलिया, इंजीनियरिंग कॉलेज व आइआइएम रोड तिराहा। आइटी चौराहा, कपूरथला व पुरनिया। चौक से दुबग्गा। चारबाग वाया लाटूश रोड से कैसरबाग बस स्टेशन तक। बांसमंडी से ऐशबाग चौकी हैदरगंज तिराहा। एवरेडी से बुलाकी अड्डा, नक्खास होते हुए कमला नेहरू चौराहा। पक्का पुल से मड़ियांव चौराहा। 1090 से पीएनटी, होटल अवध क्लॉर्क अवध तिराहा मार्ग पर ई-रिक्शा का संचालन रुकेगा।

क्या कहते हैं जिम्मेदार ?
संभागीय परिवहन अधिकारी एके सिंह ने बताया कि मेट्रो रूट पर यातायात व्यवस्था सुधारने की दिशा में पहल की जा रही है। इन पर चलने वाले वाहनों को किसी तरह की दिक्कत न हो, इसके लिए नए रूट जल्द तलाशे जा रहे हैं। चाहे ऑटो हों या फिर टेंपो अथवा नगर बस। सर्वे कर उन्हें विकल्प दिए जाएंगे। इससे नए रूट पर लोगों को सवारी का साधन भी मिलेगा।

 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Anurag Gupta

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप