लखनऊ, जेएनएन। उत्तर प्रदेश में वैश्विक महामारी कोरोना वायरस संक्रमण को नियंत्रण में देख मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जनता को रात्रिकालीन बंदी (नाइट कर्फ्यू) में थोड़ी और राहत दे दी है। संक्रमण की स्थिति की समीक्षा करने के बाद उन्होंने निर्देश दिया कि अब रात्रिकालीन कर्फ्यू रात दस की बजाए 11 से सुबह छह बजे तक रहेगा। इसके बाद नई व्यवस्था का शासनादेश भी गृह विभाग की ओर से जारी कर दिया गया है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को टीम-9 के साथ कोविड प्रबंधन पर समीक्षा बैठक के बाद नाइट कर्फ्यू में और ढील देने का निर्देश दे दिया है। अब दुकानें रात 11 बजे तक खुल सकेंगी। नाइट कर्फ्यू अब रात 11 बजे से सुबह छह बजे तक प्रभावी रहेगा। प्रदेश में कोविड की काफी नियंत्रित स्थिति को देखते हुए रात्रिकालीन कर्फ्यू रात्रि 11 बजे से प्रात: छह बजे तक प्रभावी होगा। इस दौरान सभी को 11 बजे तक दुकानें तथा बाजार बंद करने होंगे। कोई भी सड़क पर अनावश्यक घूमता मिला तो उसके खिलाफ बेहद सख्त कार्रवाई का भी निर्देश है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि विभिन्न राज्यों में कोविड के मामले एक बार फिर तेजी से बढ़ रहे हैं। हमें सावधान रहना होगा। सभी जगह पर अतिरिक्त सतर्कता बरतनी होगी। प्रदेश में कोविड प्रोटोकॉल का कड़ाई से पालन किया जाना बहुत जरूरी है। सीएम योगी आदित्यनाथ के इस निर्देश के बाद प्रदेश के अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने पत्र भी जारी कर दिया है। उत्तर प्रदेश में पहले नाइट कर्फ्यू रात दस बजे से अगले दिन सुबह छह बजे तक सख्ती से प्रभावी थी।

15 सितंबर तक बंद रहेंगे आंगनबाड़ी केंद्र

कोविड संक्रमण केस बढ़ने की आशंका के चलते निदेशालय,बाल विकास सेवा व पुष्टाहार ने सभी जिला कार्यक्रम अधिकारियों को विशेष सतर्कता के चलते आंगनबाड़ी केंद्रों को 15 सितंबर तक बंद करने के निर्देश दिए हैं। इसके चलते इस दौरान आंगनबाड़ी कार्यकत्रियां केंद्र पर पहुंचेंगी और पोषाहार की डोर-टू-डोर आपूर्ति करेंगी। बाल विकास सेवा और पुष्टाहार की निदेशक,डॉ सारिका मोहन के जारी आदेश में आंगनबाड़ी केंद्रों पर आने वाले तीन से आठ साल के बच्चों को संक्रमण की आशंका के चलते 15 सितंबर तक न आने के निर्देश जारी किए हैं। डीपीओ डॉ अनुपमा शॉडिल्य ने बताया कि निदेशालय से मिले आदेश के मुताबिक आंगनबाड़ी केंद्रों पर आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को आना है।

Edited By: Dharmendra Pandey