लखनऊ, जेएनएन। कोरोना वायरस के संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए गुरुवार को उत्तर प्रदेश के कई शहरों में रात्रिकालीन कर्फ्यू लगा दिया गया। कानपुर में बुधवार से ही रात का कर्फ्यू जारी है। इस दौरान आवश्यक सेवाएं छोड़ अन्य लोगों का बाहर निकलना प्रतिबंधित रहेगा। शिक्षण संस्थाओं को भी बंद किया गया है। जहां परीक्षाएं चल रही होंगी, वहां मानकों का पालन कर इसे संपन्न कराया जाएगा। कुछ जिलों में नौ बजे से तो कहीं दस बजे से सुबह पांच और छह बजे तक प्रतिबंध लगाया गया है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को कोरोना संक्रमण की समीक्षा के दौरान निर्देश दिया था कि जिन जिलों में प्रतिदिन सौ से अधिक मामले आ रहे हैं या 500 से अधिक सक्रिय मामले हैं, वहां नाइट कर्फ्यू लगाने पर जिला प्रशासन फैसला ले सकता है। इसके बाद कानपुर में रात का कर्फ्यू लगा दिया गया। इसके बाद लखनऊ, गाजियाबाद, मेरठ, सहारनपुर, वाराणसी, प्रयागराज, गौतमबुद्ध नगर में गुरुवार से कर्फ्यू लगाया गया। झांसी और बरेली में शुक्रवार से नाइट कर्फ्यू लागू किया जा रहा है।

जिलाधिकारियों ने इसका समय अपने हिसाब से तय किया है, कहीं नौ बजे से तो कहीं दस बजे से सुबह पांच और छह बजे तक प्रतिबंध लगाया गया है। पुलिसकर्मिमयों को रात के समय गश्त बढ़ाने और अहम चौराहों पर बेरिकेडिंग कर चेकिंग के निर्देश दिए हैं। सिर्फ आवश्यक सेवाओं से जुड़े लोगों को ही आवागमन के लिए छूट रहेगी। हालांकि, उनको पहचान पत्र दिखाना अनिवार्य होगा।

गाजियाबाद और गौतमबुद्ध नगर में बृहस्पतिवार रात दस बजे से सुबह पांच बजे तक रोजाना 17 अप्रैल तक के लिए नाइट कर्फ्यू लागू कर दिया गया है। इसके साथ ही कोचिंग सेंटर सहित सभी शिक्षण संस्थान भी 17 अप्रैल तक के लिए बंद कर दिए गए है। अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि यह सुनिश्चित किया जाए कि आवश्यक सामग्री जैसे दवा, खाद्यान्न आदि के परिवहन में परेशानी न हो।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021