लखनऊ, जेएनएन। बीएसएनएल के यूपी पूर्वी सर्किल में तैनात कुछ वरिष्ठ अधिकारियों की शह पर दो फ्रेंचाइजियों ने फर्जी आइडी पर सैकड़ों सिमकार्ड जारी कर दिए। विजलेंस जांच में दो वरिष्ठ अधिकारियों की संलिप्तता सामने आई। जांच के बाद दो एजेंसियों के लाइसेंस निरस्त कर दिए गए हैं। 

मुंबई और पटना किए गए ट्रांसफर 

विजिलेंस ने 23 सितंबर को अपनी रिपोर्ट सौंपी, जबकि 25 सितंबर को सीजीएम का तबादला मुंबई स्थित बीएसएनएल फैक्ट्री और एजीएम का तबादला पटना कर दिया गया। सीजीएम को अगले ही दिन 26 सितंबर को रिलीव भी कर दिया गया। 

वरिष्ठ अधिकारियों ने दी थी फ्रेंचाइजी 

संडीला में उन्नति डॉटकॉम और बाबा सुनासीर नाथ कंस्ट्रक्शन कंपनी को यूपी पूर्वी सर्किल में तैनात बीएसएनएल के वरिष्ठ अधिकारियों ने फ्रेंचाइजी दी थी। इन बीएसएनएल अधिकारियों पर इसे लेकर भ्रष्टाचार की शिकायत की गई। इस मामले की जांच बीएसएनएल के विजिलेंस ने की। पता चला कि उन्नति डॉटकॉम और सुनासीर नाथ कंस्ट्रक्शन कंपनी ने फर्जी आइडी पर बड़ी संख्या में सिमकार्ड जारी करने के साथ उनको एक्टिव कर दिया। वहीं नेटवर्क पर ये सिम दिखायी भी नहीं दे रहे हैं। दोनों ही एजेंसियों की फ्रेंचाइजी निरस्त कर दी गई है। 

यूं पकड़ में आया मामला

यह मामला उस समय प्रकाश में आया था जब एक ऑडियो वायरल हो गया। इसमें बीएसएनएल के एजीएम पीके गुप्ता एक फ्रेंचाइजी के संचालकों से लेनदेन की बात करते सुनायी दिए। इसमें सीजीएम आरसी राय नाम भी सामने आया था, जिसके बाद बीएसएनएल मुख्यालय ने जांच के आदेश दिए थे। 

 

Posted By: Anurag Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस