जागरण संवाददाता, लखनऊ

'अपना शहर स्वच्छ और सभी सुविधाओं से संपन्न हो, इसके लिए हम सभी सरकार व संगठनों के साथ मिलजुल कर प्रयास करेंगे। साथ ही शहर को विकास के विभिन्न मानकों पर खरा उतारने में भी योगदान देंगे, ताकिहमारा शहर नंबर वन बन सके।' दैनिक जागरण' के 'माय सिटी माय प्राइड' अभियान के तहत आयोजित राउंड टेबल कांफ्रेंस में यह संकल्प शनिवार को जनप्रतिनिधियों, विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञों, सामाजिक संगठनों और कारपोरेट सेक्टर के प्रतिनिधियों ने लिया।

'दैनिक जागरण' कार्यालय में आयोजित कांफ्रेंस के दौरान राजधानी में स्वास्थ्य, इंफ्रास्ट्रक्चर, एजुकेशन, इकोनॉमी व सुरक्षा की स्थिति व इसमें सुधार लाने की तात्कालिक संभावनाओं पर विचार विमर्श हुआ। इन पांचों विषयों पर पूर्व में अलग-अलग आयोजित हो चुकीं कांफ्रेंस में पारित प्रस्तावों पर भी चर्चा की गई। विशेषज्ञों ने कुछ प्रस्तावों में संशोधन के साथ ही अधिकांश प्रमुख प्रस्तावों पर सहमति जताई।

यही नहीं जन सामान्य के स्तर से और सीएसआर के तहत विभिन्न क्षेत्रों में कार्य कराने का भी विभिन्न संगठनों व कंपनियों के प्रतिनिधियों ने संकल्प लिया। सभी ने इस बात का भरोसा दिया कि शहर के विकास में वह बढ़-चढ़कर अपनी जिम्मेदारियों व कर्तव्यों का निर्वहन करेंगे। कांफ्रेंस में विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञों के अलावा विशिष्ट अतिथि के रूप में लखनऊ (पश्चिम) सीट से भाजपा विधायक सुरेश श्रीवास्तव मौजूद रहे।

सभी क्षेत्रों में होगा सुधार
विधायक सुरेश श्रीवास्तव ने कहा कि सरकार शहर में चौतरफा विकास करने के प्रतिबद्ध है। इसके लिए प्रयास भी किए जा रहे हैं। जल्द ही बलरामपुर अस्पताल व रानी लक्ष्मी बाई अस्पताल को मॉडल अस्पताल बनाया जाएगा। घैला के पास सौ बेड का अस्पताल बनने जा रहा है, इसकी स्वीकृति मिल गई है। अस्पतालों में व्हील चेयर, स्ट्रेचर आदि की व्यवस्था दुरुस्त करने और रोगियों व तीमारदारों की सहायता के लिए धनवंतरि सहायता केंद्र खोले जा रहे हैं। आउटर रिंग रोड व पुराने शहर में तीन फ्लाई ओवर बनने से शहर में जाम की समस्या कम होगी।

पानी की समस्या दूर करने के लिए मकान का नक्शा पास होने से पहले भूमिगत टंकी बनाकर उसी में पानी स्टोर करने का नियम बनाने की मांग की गई है। भूगर्भ जल के प्रदूषण की जांच कराने के लिए वैज्ञानिकों की कमेटी बनाने की मांग की जा चुकी है। शिक्षा का स्तर सुधारने के लिए विद्यालयों में संसाधन बढ़ाए जा रहे हैं। हमने स्कूलों में सोलर लाइट की भी व्यवस्था की है। राजाजीपुरम स्थित पंडित दीन दयाल उपाध्याय डिग्री कॉलेज में बीएड व बीपीएड की पढ़ाई भी जल्द शुरू होगी।

ये विचार आये सामने
आरटीई के तहत बच्चों का स्कूलों में दाखिला कराते हैं। सीएसआर(कॉरपोरेट सोशल रेस्‍पांस‍बिलिटी) के तहत स्कूलों में दानदाताओं से फर्नीचर की कमी पूरी करने के लिए डेस्क किट की व्यवस्था करा रहे हैं। शहर के 20 अन्य स्कूलों में किट उपलब्ध कराएंगे। पौधरोपण का संरक्षण भी लक्ष्य है।
-अनुराग सिंह राठौर, समाज सेवी।

हम जन समस्याओं का संबंधित अधिकारियों से निस्तारण कराते हैं। यातायात व मतदाता जागरूकता अभियान भी चला रहे हैं। जल्द ही गोमतीनगर में बुजुर्गों के लिए वृद्धाश्रम बनाएंगे। इसमें निराश्रितों के रहने के भी इंतजाम करेंगे।
-रूप कुमार शर्मा, सचिव, गोमती नगर जनकल्याण महासमिति।

शहर में जाम न लगे इसके लिए हम चौक में पार्किंग स्थलों पर ही बाजार तक आने जाने के लिए नि:शुल्क ई-रिक्शा की व्यवस्था करेंगे। बाजारों में कूड़ेदान रखवाएंगे। पूरी सराफा बाजार में सुरक्षा के लिए व्यापारी वर्ग के सहयोग से सीसीटीवी कैमरे लगवाएंगे।
-उमेश कुमार पाटिल, अध्यक्ष चौक सर्राफा एसोसिएशन।

मैं भिखारियों के पुनर्वास के लिए काम कर रहा हूं। अभी तक 186 भिखारी बच्चों की शिक्षा की व्यवस्था करा चुका हूं। 250 बच्चों को तालीम देता हूं। अब भिखारियों की भीख छुड़वाने के साथ उन्हें रोजगार दिलाने के लिए प्रयास करुंगा।
-शरद पटेल, संयोजक भिक्षावृत्ति मुक्ति अभियान।

शहर को समस्याओं से निजात दिलाने के लिए अधिकारियों को दफ्तर में बैठने की बजाय फील्ड में निकलना होगा। फुटओवर ब्रिज पर एस्केलेटर लगाए जाएं, ताकि बुजुर्ग व दिव्यांग व्यक्ति उसके जरिए रोड पार कर सकें। मंडी से निकलने वाले सब्जी व फलों के कचरे का चार घंटे के अंदर जानवरों के चारे के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं। इससे गैर दुधारु बुजुर्ग जानवरों के लिए चारे की कमी दूर होगी। सरकार इस ओर ध्यान दे।
-प्रदीप कुमार श्रीवास्तव, सेवानिवृत्त उपनिदेशक, सीडीआरआइ।

मैं शहीदों के परिजनों के सम्मान के लिए प्रयासरत हूं। शहीदों की याद में शहर में एक म्यूजियम बनाने की कवायद कर रहा हूं। इसके साथ ही अब सेना के जवानों को सामूहिक राखी बंधवाने का रिकार्ड बनाने की भी तैयारी है।
-सौमित्र त्रिपाठी, कार्यकारी अध्यक्ष, वीरता और बलिदान संस्था।

हमने अभी 50 हजार पौधे लगाए हैं। इसके इतर 'श्वास के लिए वृक्ष व सेहत के लिए साइकिल जरूरी' अभियान भी चला रहे हैं। अब शहीदों के नाम पर पौधे लगाने के साथ ही उसके संरक्षण के लिए लोगों को गोद भी दिलाएंगे।
-मानस सांकृत्यायन, अध्यक्ष मानस पर्यावरण संरक्षण संस्था।

हम खुद पौधे लगाने के साथ ही लोगों को पौधरोपण के प्रति जागरूक करते हैं। इसके इतर गरीबों की बेटियों की शादी व बच्चों की पढ़ाई की निश्शुल्क व्यवस्था करते हैं। इसके लिए हमसे कोई भी जरूरतमंद सहायता ले सकता है।
-अजीत सिंह, लखनऊ रॉयल इंफ्रा कंपनी।

दैनिक जागरण के सात सरोकारों में से एक पर्यावरण संरक्षण की मुहिम से मैं प्रभावित हूं। पौधे रोपने के साथ ही लोगों को भी जागरूक कर रही हूं। हमारी कोशिश है कि लोग अधिक से अधिक पौधरोपण करें।
-प्रीति शाह, मीडिया एवं डेवलपमेंट प्रोफेशनल।

बेरोजगारों को रोजगार दिलाने के लिए मैं प्रयासरत हूं। सरकार की कई तरह की ऐसी स्कीम चल रही हैं, जिनके प्रति लोगों को जागरूक कर रहा हूं। बेरोजगार हमसे संपर्क करें, उन्हें रोजगार दिलाने का प्रयत्न करूंगा।
-भवनीत सिंह, समाधान समिति।

लावारिश या बेसहारा लोगों को तत्काल मदद की व्यवस्था सरकार को करना चाहिए। इनके लिए बनीं हेल्पलाइन भी तत्काल रिस्पांस नहीं देतीं। उनकी जिम्मेदारी सुनिश्चित हो। पुलिस को भी ऐसे मामलों में संवेदनशील किया जाए।
-आनंद सिंह, कर्मचारी।

हम शिक्षा की गुणवत्ता सुधारने पर जोर दे रहे हैं। इसी कड़ी में 20 स्कूलों में क्वालिटी एजुकेशन की व्यवस्था की है। युवा केंद्र भी खोले हैं। उनमें बेरोजगार युवाओं को प्रशिक्षण देकर उन्हें स्वावलंबी बना रहे हैं। बेरोजगार हमसे मिलें हम उनकी मदद करेंगे।
- ऋषि कुमार, एचसीएल टेक्नोलॉजी लिमिटेड।

हम केजीएमयू सहित शहर के कई अस्पतालों में तीमारदारों के लिए निश्शुल्क भोजन की व्यवस्था कर रहे हैं। अब शहर के प्रमुख चौराहों पर भी भोजन की व्यवस्था करेंगे। साथ ही पांच चौराहों पर स्वच्छ पेयजल के लिए संयंत्र भी लगवाएंगे।
-विशाल सिंह, प्रसादम सेवा।

मैं जल व पर्यावरण संरक्षण के प्रति जागरूकता अभियान चला रही हूं। इसके साथ ही अन्न की बर्बादी रोकने के लिए प्रयत्नशील हूं। प्रदूषण को रोकने और सफाई के प्रति जनजागरूकता लाने के लिए शीघ्र ही पदयात्रा निकालूंगी।
-अनुराधा गुप्ता, समाजसेवी।

शहर के पांच मुख्य चौराहों पर स्वच्छ पेयजल की व्यवस्था करने का मैं संकल्प लेता हूं। वहां शीघ्र ही वाटर संयंत्र लगवाउंगा। इसके साथ ही अस्पतालों में तीमारदारों को निशुल्क भोजन उपलब्ध कराने की योजना में सहयोग प्रदान करूंगा।
-गणेश कुमार, एमडी लक्ष्मी संस्था।

हम 28 स्टार्ट अप स्कीम चला रहे हैं। इसके तहत विशेषज्ञों की सक्सेस स्टोरी पर डाक्युमेंट्री फिल्म तैयार कर सोशल मीडिया पर लाइव प्रसारित करते हैं, ताकि लोग जागरूक हों। परिवर्तन चौक पर ज्येष्ठ महीने में विभिन्न लोगों के सहयोग से 31 दिन तक चलने वाले नि:शुल्‍क भंडारे में भी सहयोग करते हैं।
-मुकेश कुमार शुक्ल, प्रेसीडेंट, समाधान।

हमने चार अनाथालयों को गोद लिया है। वहां के बच्चों की शिक्षा व्यवस्था का जिम्मा संभाल रही हूं। अभी 25 बच्चे पढ़ा रही हूं। अगले वर्ष तक 100 बच्चों की शिक्षा की व्यवस्था करूंगी। इसके साथ ही श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर अनाथ बच्चों का जन्मदिन मनाने का कार्यक्रम शुरू किया है। यह कार्यक्रम हर साल आयोजित करेंगे।
-अपर्णा, संस्थापक स्प्रिचुअल फाउंडेशन।

शहर में स्वास्थ्य सेवाएं बेहतर करने के लिए 300 बेड का अपोलो हॉस्पिटल खुलने जा रहा है। हॉस्पिटल द्वारा वरिष्ठ नागरिकों को विशेष चिकित्सकीय सुविधा मुहैया कराई जाएगी। प्रारंभिक उपचार के लिए घर तक टीम के सदस्य निशुल्क जाएंगे।
- अभिषेक सिंह, एजीएम मार्केटिंग, अपोलो मेडिक्स हॉस्पिटल।

 

By Krishan Kumar