लखनऊ, जेएनएन। एलडीए गरीब आवासों में किस्तों का बेतुका नियम बदलने को राजी नहीं है। इस संबंध में उपाध्यक्ष से लेकर सभी आला अधिकारियों ने पल्ला झाड़ लिया है। मासिक आय 25 हजार वाले व्यक्ति को 60 हजार रुपये महीना किस्त देनी ही होगी। 

एलडीए के कुल 29 ईडब्ल्यूएस फ्लैटों का पंजीकरण 27 जनवरी से शुरू किया गया था। इनके अलावा डेढ़ सौ के करीब महंगे फ्लैटों का भी पंजीकरण शुरू किया गया है। ईडब्ल्यूएस के लिए मासिक आय सीमा करीब 25 हजार रुपये है, मगर फ्लैटों की कीमत 14 लाख है। ये 14 लाख रुपये दो साल में देने हैं। ऐसे में करीब 60 हजार रुपये महीने की किस्त बनती है। विगत शुक्रवार को खबर प्रकाशित होने के बाद एलडीए उपाध्यक्ष शिवाकांत द्विवेदी ने बताया था कि ये नियम जब बने थे, तब मैं पदभार ग्रहण नहीं किया था। इस संबंध में बदलाव को लेकर संबंधित अधिकारियों से बातचीत करूंगा। ताकि कुछ रास्ता निकाला जा सके, मगर अब तक ऐसा कुछ भी नहीं किया गया है।

फुल पेमेंट करने वालों को प्राथमिकता से दिक्कत बढ़ी

न केवल किस्तें अधिक हैं, बल्कि फुल पेमेंट दो माह के भीतर करने वालों को प्राथमिकता का भी वादा एलडीए ने दिया है। इसका अर्थ है कि जो लोग दो माह में पूरा पेमेंट करने का विकल्प भरेंगे, उनकी लॉटरी पहले की जाएगी। उनसे अगर कुछ बचेगा तो फिर आगे लॉटरी होगी। ऐसे में ईडब्ल्यूएस कैटेगिरी में आने वाले वास्तविक पात्रों की दिक्कतें और अधिक बढ़ती जा रही हैं।

 

Posted By: Anurag Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस